नई दिल्ली. आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक चंदा कोचर ने तत्काल प्रभाव से अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. शेयर बाजार के साथ गुरुवार को साझा की गई सूचना के अनुसार बैंक के निदेशक मंडल ने कोचर का त्यागपत्र स्वीकार कर लिया है.

बैंक ने कहा, निदेशक मंडल ने कोचर का त्यागपत्र तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है. निदेशक मंडल द्वारा की जा रही जांच पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. बोर्ड ने संदीप बख्शी को बैंक का प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त करने का निर्णय किया है. बख्शी का कार्यकाल पांच साल यानी तीन अक्टूबर 2023 तक होगा.

छुट्टी पर चल रही थीं चंदा
संचालन के उच्च मानदंड और कंपनी मानकों के अनुरूप चंदा आंतरिक जांच पूरी होने तक अवकाश पर रहेंगी. जांच की घोषणा पिछले महीने की गयी थी. चंदा कोचर और उनके परिवार के सदस्य वीडियोकान समूह को दिये गये कर्ज में एक-दूसरे को लाभ पहुंचाने और हितों के टकराव के आरोप का सामना कर रहे हैं. बैंक के निदेशक मंडल ने एन एस कन्नन को आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी का प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) नियुक्त करने की भी सिफारिश की.

लोन मामले की सीबीआई कर रही जांच
बता दें कि सीबीआई ने 2012 के लोन मामले में वीडियोकॉन समूह के प्रवर्तक वेणुगोपाल धूत, दीपक कोचर और कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ प्रारंभिक जांच दर्ज की है. सीबीआई आरोपों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए शुरुआती जांच कर रही है. सीबीआई ने 2012 में आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को दिए गए 3,250 करोड़ रुपए के लोन मामले में 7 अप्रैल को बैंक की प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर से करीब नौ घंटे तक पूछताछ की थी.