नई दिल्ली: भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-19 (कोरोना वायरस) का कोई कम्युनिटी ट्रांसमिशन (सामुदायिक प्रसार) नहीं है. भार्गव ने कहा, “सामुदायिक प्रसार को लेकर काफी बहस चल रही है. डब्ल्यूएचओ ने इसकी परिभाषा नहीं दी है. Also Read - बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या 12 हज़ार से पार, अब तक 98 मौतें, इन जिलों का बुरा है हाल

भारत इतना बड़ा देश है और इसका प्रसार बहुत कम है. छोटे जिलों में इसका प्रसार एक प्रतिशत से भी कम है. यह शहरी क्षेत्र में थोड़ा अधिक है. कन्टेनमेंट क्षेत्रों में, यह थोड़ा अधिक हो सकता है. लेकिन, हम सुनिश्चित हैं कि भारत में सामुदायिक प्रसार नहीं है.” Also Read - कोरोना: मुंबई में दो महीने बाद थोड़ी राहत, एक दिन में सबसे कम 806 नए मामले सामने आए

आईसीएमआर प्रमुख ने कहा, “मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगा कि यह सामुदायिक प्रसार में नहीं है.” आईसीएमआर प्रमुख ने हालांकि कहा कि उन्हें परीक्षण, पता लगाना, ट्रैकिंग और क्वारंटीन की रणनीति को जारी रखना होगा. उन्होंने रोकथाम के उपायों को जारी रखने पर जोर दिया. भारत में संक्रमण के 9,996 नए मामले सामने आए हैं और 357 नई मौतें हुई हैं. कुल मामलों की संख्या करीब 2.86 लाख हो गई है. Also Read - ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सोनारो को भी हुआ कोरोना, टेस्ट रिपोर्ट आई पॉजिटिव

कहा जा रहा है कि जुलाई में भारत में कोरोना पीक पर होगा. दिल्ली और महाराष्ट्र में कोरोना ज़बरदस्त तरीके से फैला हुआ है. दिल्ली में 32 हज़ार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. जबकि महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की संख्या एक लाख के करीब पहुंच गई है.