गुवाहाटी: भाजपा के वरिष्ठ नेता और असम के मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने रविवार को कहा कि अगर उनकी पार्टी 2021 के विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता में आती है तो राज्य सरकार ‘लव जिहाद’ के खिलाफ ‘कड़ी लड़ाई’ शुरू करेगी. विधानसभा का चुनाव अगले साल मार्च-अप्रैल में प्रस्तावित है. Also Read - Video: बोर न हों कोरोना के मरीज, पीपीई किट में डॉक्टर ने 'घुंघरू' गाने पर किया जबरदस्त डांस

डिब्रूगढ़ में भाजपा महिला मोर्चा की एक बैठक में उन्होंने कहा, ‘‘ हमें असम की जमीन पर लव जिहाद के खिलाफ एक नयी और कड़ी लड़ाई शुरू करनी होगी. अगर भाजपा दोबारा सत्ता में आती है तो हम यह निर्णय लेंगे कि अगर कोई भी लड़का धार्मिक पहचान छुपाता है और असम की बेटियों और महिलाओं पर कुछ भी नकारात्मक टिप्पणी करता है तो उसे कड़ी सजा मिले.’’ Also Read - हिंसक झड़प के बाद असम और मिजोरम के मुख्यमंत्रियों ने की फोन पर बात, केंद्र ने बुलाई आपात बैठक

उन्होंने कहा, ‘‘लव जिहाद ने असम की बेटियों के लिए पहाड़ जैसी बड़ी समस्या खड़ी की है. कई लड़कियों की तो तलाक की नौबत आ गई क्योंकि उन्हें गलत नाम बताकर लड़कों ने धोखा दिया.’’ Also Read - Madrasas & Sanskrit Institutions Closed: इस राज्य में नवंबर से बंद हो जाएंगे मदरसा, संस्कृत संस्थान, शिक्षा मंत्री ने दी ये जानकारी 

उन्होंने कहा कि भविष्य में अगर भाजपा सरकार आती है तो लव जिहाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और सरकार इसके खिलाफ कानून भी बना सकती है. उन्होंने कहा कि देश की बेटियों के साथ बुरे बर्ताव को भाजपा सरकार किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं करेगी. मंत्री ने कहा कि केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा को लेकर सजग है.

(इनपुट एजेंसी)