नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर के मसले को लेकर बेहद विवादित बयान दिया है. सोमवार को उन्होंने कहा कि अगर हिंदुओं का सब्र टूट गया तो देश में कुछ भी हो सकता है. इसलिए सरकार को राममंदिर के लिए कानून बनाना चाहिए या फिर अदालत को फैसला देना चाहिए. गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने भी कुछ दिन पहले अयोध्या में राम मंदिर के लिए कानून बनाने की मांग की थी. सुप्रीम कोर्ट में नई बेंच के सामने सोमवार को ही राम मंदिर के मसले पर सुनवाई होने वाली थी लेकिन उसे जनवरी तक टाल दिया गया.

हमारी सहयोगी चैनल जी मीडिया से बातचीत में सिंह ने कहा कि कांग्रेस चाहती है कि राममंदिर का मसला विवादित बना रहे. कपिल सिब्बल कहते हैं कि इस मसले पर अभी फैसला नहीं आना चाहिए. इसका मतलब है कांग्रेस नहीं चाहती कि अयोध्या में राम मंदिर बने. लेकिन 125 करोड़ हिंदू अब इंतजार करने के लिए तैयार नहीं है. बहुत इंतजार हो चुका. इससे पहले भाजपा के प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा था कि भाजपा अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए वचनबद्ध है और वह इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेगी.