कोयंबटूर: द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने शनिवार को कहा कि अगर अन्नाद्रमुक ने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनावों के दौरान भाजपा पर दबाव बनाया होता तो तमिलनाडु को नीट से छूट मिल सकती थी. स्टालिन ने कहा कि नीट से राज्य को छूट की मांग के लिए विधानसभा द्वारा प्रस्ताव किये जाने के बावजूद केंद्र ने कोई कदम नहीं उठाया.

निकटवर्ती मेत्तुपलायम में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि अगर अन्नाद्रमुक के 50 सांसदों ने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनावों के दौरान भाजपा पर दबाव बनाया होता तो राज्य को छूट मिल सकती थी. उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ पार्टी छात्रों के भविष्य को नजरंदाज करते हुए केवल अपनी सरकार को बचाने में रूचि ले रही है. स्टालिन ने छात्र समुदाय से आगे आने और अपने मुद्दों के लिए लड़ने की अपील की.