नई दिल्‍ली: भारतीय सुरक्षा बलों और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन के मंसूबों पर पानी फेरते हुए एक बार फिर पुलवामा आत्‍मघाती जैसी बड़ी आतंकी वारदात को रोक लिया है. बता दें कि पिछले साल भी पुलवामा में आत्‍मघाती आतंकी हमले में आतंकी एक गाड़ी में विस्फोटक लेकर सुरक्षाबलों के काफिले में जा घुसे थे और विस्‍फोट कर दिया था, जिसमें CRPF के करीब 45 जवान शहीद हो गए थे. Also Read - J&K Updates: आतंकवादी हमले में बिजबेहरा में CRPF जवान शहीद, त्राल में एनकाउंटर में 3 आतंकी ढेर

कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने इस आतंकीवारदात को रोकने में कैसे कामयाबी मिली है, इसके बारें में उन्‍होंने एक लाइव प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में गुरुवार को सुबह बताया है. आईजी विजय कुमार ने बताया कि पुलवामा पुलिस को पिछले एक हफ्ते से ख़बर मिल रही थी कि जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन एक आत्मघाती हमला करने वाले हैं और एक सेंट्रो कार ली है उसमें आईडी भर कर वो किसी भी समय हमला कर सकते हैं. Also Read - 'जन्नत' बचाने निकली छोटी सी जन्नत, अब बच्चे किताबों में पढेंगे इनकी कहानी, PM मोदी ने की थी तारीफ़

आईजी विजयकुमार ने बताया कि कल शाम को पुलवामा पुलिस ने आर्मी, CRPF का नाका लगाया, जिस गाड़ी की खबर थी जब वो नाके के पास आई तो एक वार्निंग फायर की और मिलि‍टेंट गाड़ी घुमाकर भाग गया. अगले नाके पर भी उस पर वार्निंग फायर की गई, उस जगह मिलीटेंट अंधेरा होने की वजह से गाड़ी को छोड़ कर भाग गया. उन्‍होंने कहा कि ये किसी आतंकी सुरक्षा बल की गाड़ी को निशाना बनाता. ऐसा लगता है कि कार में 40-45 किलो विस्फोटक होगा.

आज गुरुवार को अलसुबह सुबह पुलवामा जिले में रजपुरा रोड के पास एक सैंट्रो कार को जब्त किया गया, जिसमें करीब 40 किलो तक विस्फोटक था. सुबह बम स्क्वायड को बुलाकर IED को डिफ्यूज किया गया, जब निष्क्रिय किया गया तो कार में बम फटा और उसका धुआं 50 फीट तक ऊपर उछला. IED को डिफ्यूज करने दौरान आसपास के इलाके को खाली करवा दिया गया था.