नई दिल्ली: कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने आतंकवाद निरोधी अभियानों में सीआरपीएफ की भूमिका के बारे में टिप्पणी करके घाटी में तैनात बलों के बीच विवाद खड़ा कर दिया है. अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि 29 अप्रैल को बारामूला में जिला पुलिस लाइंस में डीजीपी दिलबाग सिंह की अध्यक्षता में हुई संयुक्त बलों की बैठक में आईजी कुमार ने कथित तौर पर कहा कि अर्द्धसैनिक बल तो महज दिखावे के लिए है, असल अभियान तो सेना, उसकी इकाई राष्ट्रीय रायफल्स राज्य पुलिस से मिलने वाली खुफिया जानकारी की मदद से चलाती है. Also Read - हथियारों के जखीरे के साथ आतंकी अरेस्ट, नए आतंकी संगठन ने कहा- बाहर का जो कश्मीर में बसेगा, मारा जाएगा

भारतीय पुलिस सेवा के 1997 बैच के अधिकारी कुमार ने कथित तौर पर कहा कि कश्मीर के अभियानों में सीआरपीएफ का काम अच्छा नहीं है और वह यह बात बेहतर ढंग से जानते हैं क्योंकि पहले वह अर्द्धसैनिक बल में प्रतिनियुक्ति पर काम कर चुके हैं. अधिकारियों ने कहा कि सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे और उन्होंने बल के खिलाफ कही गई इन अप्रिय बातों को लेकर बैठक के बाद कुमार के सामने विरोध प्रकट किया. Also Read - J&k: कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी हुए ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

सीआरपीएफ के वरिष्ठ कमांडरों ने इस मामले में उच्च स्तरीय दखल की मांग की है. जम्मू-कश्मीर पुलिस के कश्मीर जोन की ओर से देश के सबसे बड़े अर्द्धसैनिक बल की भूमिका की प्रशंसा में शुक्रवार को ट्वीट किया गया. कुमार सीआरपीएफ में डिप्टी आईजी (नई दिल्ली रेंज) रह चुके हैं. Also Read - VIDEO: आर्मी ने आतंकियों की कार के उड़ाए परखच्चे, जैश-हिजबुल का टेटर प्‍लान धुंआ-धुंआ