नई दिल्ली: केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अपनी राष्ट्रीय रैंकिंग में बेंगलुरू स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) को समग्र रूप से सर्वश्रेष्ठ संस्था चुना है. विज्ञान भवन में एक कार्यक्रम में रैंकिंग की घोषणा करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मद्रास स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी-एम) को सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेज और अहमदाबाद स्थित भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम-ए) को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन संस्थान चुना गया है.Also Read - Violence In JNU: जेएनयू में फिर भड़की हिंसा, ABVP और लेफ्ट के छात्रों के बीच मारपीट, कई घायल

कॉलेजों में पहले नंबर पर मिरांडा हाउस
राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग ढांचे( एनआईआरएफ) के मुताबिक, दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य देखभाल संस्थान और बेंगलुरू स्थित नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (एनएलएसआईयू) को देश में सर्वश्रेष्ठ विधि कॉलेज चुना गया. विश्वविद्यालय श्रेणी में भारतीय विज्ञान संस्थान को पहले, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को दूसरे और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) को तीसरे पायदान पर रखा गया. Also Read - जामिया दंगा: जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को राहत नहीं, जमानत से कोर्ट का इनकार

अगले साल से अनिवार्य होगी भागीदारी
भारतीय विज्ञान संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, उद्योगपति जमशेदजी टाटा, मैसूर के महाराजा और भारत सरकार की साझेदारी से 1909 में इस संस्थान की स्थापना की गई थी. इस बीच, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एनआईआरएफ में सार्वजनिक संस्थानों की भागीदारी को अगले वर्ष से अनिवार्य कर दिया है. मंत्री जावड़ेकर ने यह जानकारी दी. Also Read - CPI नेता कन्‍हैया कुमार और गुजरात के विधायक जिग्‍नेश मेवाणी 28 सितंबर को कांग्रेस में होंगे शामिल

जावड़ेकर ने कहा, ‘‘एनआईआरएफ में भागीदारी नहीं करने वाले सार्वजनिक संस्थानों को मिलने वाली धनराशि में कटौती का सामना करना पड़ेगा.’’पहले इस रैंकिंग ढांचे में भागीदारी अनिवार्य नहीं थी.