नयी दिल्ली: देश में जून महीने में बारिश सामान्य से 33 फीसदी कम दर्ज की गई है. मौसम विभाग के 28 फीसदी उपमंडलों में बारिश में कमी दर्ज की गई है और पांच उपमंडलों में बारिश सामान्य रही है. हालांकि, मानसून के इस सप्ताह और अधिक सक्रिय होने की संभावना है. Also Read - Cyclone Nivar: चक्रवाती तूफान ‘निवार’ हो रहा विकराल, 130-140 KM/ घंटे तेज चलेंगी हवाएं, तमिलनाडु में छुट्टी घोष‍ित

Also Read - Mumbai Rain: मुंबई में बारिश से बढ़ी मुसीबतें, पानी से भरी लिफ्ट में फंसकर दो चौकीदारों की मौत

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अपर महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है जिससे मध्य भारत सहित ओडिशा और राजस्थान के कुछ हिस्सों में अच्छी बारिश हो सकती है. महापात्रा ने कहा कि उत्तर भारत के हिस्सों दिल्ली, पंजाब और हरियाणा को इस कम दबाव के क्षेत्र से कोई फायदा नहीं मिलेगा और इस बात की संभावना क्षीण है कि इन राज्यों में इस वजह से बारिश होगी. तीस जून तक मानसून उत्तर भारत के कुछ इलाकों को छोड़कर पूरे देश में पहुंच चुका है. इसने अभी दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर में दस्तक नहीं दी है. Also Read - अगले सप्ताह से वापस होगा मानसून, कई राज्यों में हो सकती है भारी बारिश, जानें मौसम के बारे में क्या है आईएमडी की रिपोर्ट

महाराष्ट्र में भारी बारिश से 8 लोगों की मौत, उत्तर भारत में गर्मी से नहीं मिली कोई राहत

मौसम विभाग के 36 में से 28 उपमंडलों में बारिश कम दर्ज की गई है जबकि दो उपमंडलों में बारिश को ‘अत्यधिक कमी’की श्रेणी में रखा गया है. केवल पांच उपमंडलों- कोंकण एवं गोवा, जम्मू और कश्मीर, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, पूर्वी राजस्थान और गुजरात में सामान्य वर्षा दर्ज की गई है. मानसून केरल के तट पर एक सप्ताह की देरी से आठ जून को पहुंचा था. उसके बाद अरब सागर में उठे ‘वायु’ चक्रवात की वजह से इसके आगे बढ़ने में बाधा पहुंची.