सिंगापुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कश्मीर और चीन के मुद्दे पर अपने विचार रखे. कश्मीर के मुद्दे पर राहुल ने एनडीए सरकार को घेरा और यूपीए सरकार का गुणगान किया. राहुल ने कहा कि डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार में हमारी कश्मीर पॉलिसी ये थी कि लोगों के साथ रिश्ते बढ़ाएं जाएं. जब 2004 में यूपीए सरकार सत्ता में आई तो हमें जलता हुआ कश्मीर सौंपा गया था. हमने एक प्लान बनाया और इस पर 9 साल तक काम किया. Also Read - जम्‍मू-कश्‍मीर: सुरक्षाबलों ने रात में मार गिराया एक आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी

राहुल ने कहा, आप लोगों के साथ जुड़ते हैं, आप उन्हें पास बुलाते हैं, आप उनके साथ काम करते हैं, आप लोगों पर भरोसा करते हैं. ये काम करता है. मैंने इसे अपने लिए महसूस किया है. 2014 में मैं जब जम्मू कश्मीर गया तो मुझे रोना आ गया. मैंने देखा कि एक गलत सियासी फैसला कैसे सालों से बनाई गई पॉलिसी को बिगाड़ सकता है. 

राहुल गांधी सिंगापुर पहुंचे, कुछ इस अंदाज में हुआ वेलकम

राहुल गांधी सिंगापुर पहुंचे, कुछ इस अंदाज में हुआ वेलकम

राहुल ने चीन के मुद्दे पर भी अपनी राय रखी. राहुल ने कहा, भारत को चीन के साथ शांतिपूर्ण और सहयोगात्मक रिश्ता रखना ही होगा. मनुफैक्चरिंग में भारत, चीन को चुनौती और उससे प्रतियोगिता क्यों नहीं कर सकता.

जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों ने 6 महीने में 80 आतंकी किए ढेर, 115 अब भी सक्रिय

जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों ने 6 महीने में 80 आतंकी किए ढेर, 115 अब भी सक्रिय

केंद्र सरकार पर कांग्रेस हमलावर

बता दें कि जम्मू कश्मीर को लेकर कांग्रेस, मोदी सरकार पर लगातार हमलावर है. कांग्रेस का कहना है कि केंद्र सरकार ने कश्मीर का मामला ठीक तरह से नहीं संभाला जिसकी वजह से वहां आए दिन आतंकी वारदातें हो रही हैं. पार्टी का कहना हैकि मोदी सरकार की नीतियों की वजह से ही कश्मीर में हालात बिगड़े हैं, वहां आर्मी कैंपों पर हमला हो रहा है और आम लोग भी मारे जा रहे हैं. पिछले कुछ सालों में कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकी मारे गए हैं. सेना के ऑपरेशन ऑल आउट से आतंकियों पर भारी दबाव है और वे हताश हो रहे हैं. इन सबके बीच आतंकी आर्मी कैंपों को निशाना बनाने से भी नहीं चूक रहे हैं.  सेना की सख्ती के चलते जवानों पर पत्थरबाजी की घटनाएं भी कम हुई हैं.