नई दिल्ली. चुनाव आयोग ने शनिवार को 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, मिजोरम और तेलंगाना में 12 नवंबर से 7 दिसंबर के बीच मतदान होंगे और 11 दिसंबर को वोटों की गिनती होगी. उसी दिन पांचों राज्यों के रिजल्ट भी आ जाएंगे. ऐसे में आइए जानते हैं कि राज्यों में सीटों की क्या स्थिति है और कौन सी पार्टी किस पोजिशन पर है… Also Read - तिब्बत की निर्वासित संसद के लिए पहले चरण का चुनाव संपन्न, 14 मई को चुनी जाएगी सरकार

मध्यप्रदेश चुनाव
मध्यप्रदेश की बात करें तो राज्य की 230 विधानसभा सीटों के लिए 28 नवंबर को एक ही चरण में वोटिंग होगी. 11 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी. बता दें कि यहां सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई है. हालांकि, बहुजन समाजवादी पार्टी, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी, जयस और समाजवादी पार्टी भी वहां चुनावी मैदान में उतर गई हैं. Also Read - चार राज्यों का चुनाव लड़ेगी 'Aam Aadmi Party', विधायकों ने डाला डेरा

साल 2013 के चुनाव में बीजेपी को 165 सीटें मिली थीं. उसके वोट शेयर पर बात करें तो कुल 44.88 फीसदी लोगों ने बीजेपी के पक्ष में मतदान किया था. दूसरी तरफ कांग्रेस को सिर्फ 58 सीटें मिली थीं. हालांकि, वोट शेयर में वह 36.38 फीसदी रही थी. तीसरे नंबर पर बीएसपी थी और उसे 6.29 फीसदी वोट शेयर के साथ कुल 4 सीटें मिली थी. वहीं, 3 निर्दलीय प्रत्याशी भी इस चुनाव में जीत कर आए थे. Also Read - Jammu Kashmir DDC Elections Results 2020: जम्मू-कश्मीर डीडीसी चुनाव की मतगणना के लिए तैयारियां पूरी, 20 जिलों में होगी काउंटिंग, जानें डिटेल

राजस्थान
राज्य में 7 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे. विधानसभा की 200 सीटें के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे. यहां भी सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस में सीधी लड़ाई है. हालांकि, नेशनल पिपल पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी एनयूजेडपी और सपा भी मैदान में रहती है.

पिछले चुनाव की बात करें तो बीजेपी ने एक तरफा जीत हासिल की थी. उसे 81.5 फीसदी वोटों के साथ कुल 163 सीटों पर जीत मिली थी. इसके बाद दूसरे नंबर कांग्रेस थी, जिसे 10.5 फीसदी वोट शेयर के साथ सिर्फ 21 सीटें मिली थी. चौंकाने वाली बात रही थी कि राज्य में 7 निर्दलीय प्रत्याशी जीते थे. नेशनल पिपल पार्टी को 4 और बीएसपी को तीन सीटें मिली थी. एनयूजेडपी को भी 2 सीटें मिली थी.

छत्तीसगढ़
राज्य में दो चरणों में चुनाव होने हैं. पहले चरण में 12 नवंबर को 18 सीटों पर और 20 नवंबर को 72 सीटों पर वोटिंग होगी. 90 सीटों पर रिजल्ट भी 11 दिसंबर को आएंगे. यहां भी सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई है. हालांकि, अजीत जोगी की पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी भी राज्य में चुनावी मैदान में उतरी हैं.

साल 2013 के चुनाव की बात करें तो बीजेपी को 49 सीटें मिली थीं और 54.44 फीसदी वोट शेयर थे. वहीं, कांग्रेस 43.33 फीसदी वोट शेयर के साथ 39 सीटें मिली थीं. एक निर्दलीय को और एक बहुजन समाजवादी पार्टी जीतने में सफल रही थी.

मिजोरम
यहां भी एक ही चरण में मतदान होंगे. यहां 28 नवंबर को वोटिंग और 11 दिसंबर को गिनती होगी. इसी दिन नतीजे आएंगे. राज्य में कांग्रेस की सरकार है. इसके अलावा वहां एमएनएफ, जेडएनपी, एमपीसी और बीजेपी के साथ अन्य छोटी पार्टियां भी चुनाव लड़ती हैं.

साल 2013 के चुनाव की बात करें तो राज्य में 44.6 फीसदी वोट के साथ 34 सीटें पाने में सफल रही थी. इसके बाद 28.7 फीसदी के साथ एमएनएफ को 28.7 फीसदी वोट के साथ 5 सीटें मिली. एमपीसी भी 1 सीट जीतने में सफल रही थी.

तेलंगाना
तेलंगाना में भी एक ही चरण में चुनाव होंगे और 11 दिसंबर को वोटों कि गिनती होगी. यहां की प्रमुख पार्टी तेगलु देशम पार्टी, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, तेलंगाना राष्ट्रीय समिति, कांग्रेस और, एआईएमएआईएम, बीएसपी, सीपीएम और बीजेपी प्रमुख पार्टियां हैं.

साल 2013 के चुनाव की बात करें तो तेलगु देशम पार्टी को 117 सीटें मिली थीं. वाईएसआर कांग्रेस को 70, तेलंगाना राष्ट्रीय समिति को 63, कांग्रेस को 22, बीजेपी को 9, एआईएमएआईएम को 7, बीएसपी को 2, सीपीएम को 1 और सीपीआई को 1 सीट मिली थी.