नई दिल्ली. पांच राज्यों में मतदान की समाप्ति के बाद कई टीवी चैनलों और सर्वेक्षण करने वाले संगठनों का एक्जिट-पोल आ गए हैं. सभी सर्वेक्षणों को एक साथ देखने पर महा एक्जिट पोल के नतीजे ये बताते हैं कि कुल पांच राज्यों में से तीन में तो राष्ट्रीय पार्टियों के नाम की चर्चा खूब हो रही है, लेकिन दो सूबों में इन दलों की उम्मीदें धड़ाम हो गई हैं. महा एक्जिट पोल के नतीजों पर गौर करें तो मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में तो कांग्रेस या भाजपा की बातें हो रही हैं, लेकिन मिजोरम और तेलंगाना में दो क्षेत्रीय दलों को बहुमत मिलता दिख रहा है. तेलंगाना में जहां सत्तारूढ़ टीआरएस विधानसभा चुनाव में बहुमत हासिल करती दिख रही है, वहीं उत्तर-पूर्वी राज्य मिजोरम में प्रमुख विपक्षी पार्टी एमएनएफ चुनावी जीत के मुहाने पर खड़ी दिख रही है.

Exit Poll Live: महा एक्जिट पोल में मध्य प्रदेश में BJP सबसे बड़ी पार्टी, राजस्थान में कांग्रेस की सरकार, छत्तीसगढ़ में कड़ी टक्क

महा एक्जिट पोल के आंकड़ों पर गौर करें तो 40 सदस्यीय मिजोरम विधानसभा में मिजो नेशनल फ्रंट को 19 सीटों पर जीत हासिल होने की बात कही जा रही है. यानी पिछले 10 वर्षों से सत्ता में बनी हुई कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनाने की ख्वाहिशों को पलीता लगता दिख रहा है. विधानसभा चुनाव के लिए हुए मतदान को लेकर किए गए विभिन्न एजेंसियों के सर्वे में मिजो नेशनल फ्रंट बहुमत के आंकड़े 21 से सिर्फ 2 सीट कम पर है. वहीं कांग्रेस के हिस्से में सिर्फ 15 सीटें जाती ही दिख रही हैं.

जानिए किस राज्य में कितनी सीटें जीतकर मिलेगा बहुमत, कौन सी पार्टी बनाएगी सरकार

इसी तरह तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद महा एक्जिट पोल के नतीजे बता रहे हैं कि यहां भी सत्तारूढ़ टीआरएस ही चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में उभरकर सामने आ रही है. शुक्रवार को समाप्त हुए मतदान के बाद के एक्जिट पोल के अनुसार, टीआरएस को 65 से 70 सीटें मिलने की बात कही गई है. वहीं, कांग्रेस-टीडीपी गठबंधन को 36 और भाजपा के हिस्से में महज 5 सीटें जाती दिख रही हैं. यानी महा एक्जिट पोल के नतीजों से यह साफ हो गया है कि तेलंगाना और मिजोरम में राष्ट्रीय पार्टियों के मुकाबले जनता ने क्षेत्रीय दलों पर ज्यादा भरोसा जताया है. हालांकि 11 दिसंबर को होने वाली मतगणना से पहले किसी भी पार्टी को मिलने वाली सीटों के बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा जा सकता, लेकिन एक्जिट पोल के नतीजे छोटे राज्यों में क्षेत्रीय दलों के वर्चस्व की कहानी जरूर बयां करते हैं.