नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण नियंत्रण की सारी कवायदें फेल होती दिख रही हैं. शनिवार को धुंधभरी सुबह के साथ न्यूनतम तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके साथ ही हवा की गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ की श्रेणी में पहुंच गई.

बेहद खराब है स्थिति
उल्लेखनीय है कि 0 से 50 के बीच एक्यूआई ‘‘अच्छा’’ माना जाता है, 51 और 100 के बीच ‘‘संतोषजनक’’, 101 और 200 के बीच ‘‘मध्यम’’ श्रेणी का, 201 और 300 के बीच ‘‘खराब’’, 301 और 400 के बीच ‘‘बेहद खराब’’ और 401 से 500 के बीच एक्यूआई ‘‘गंभीर’’ माना जाता है. केंद्र की वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान और अनुसंधान प्रणाली ने भी एक्यूआई ‘बेहद खराब’ श्रेणी का दर्ज किया.

दिल्ली NCR में प्रदूषण कम करने की कवायदें फेल, वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ स्तर पर पहुंची

अपना ख़याल रखें
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारी ने कहा, आसमान पूरे दिन साफ बना रहेगा. यहां अधिकतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहेगा. सुबह 8.30 बजे आद्र्रता का स्तर 83 प्रतिशत दर्ज किया गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड(सीपीसीबी)के अनुसार, दिल्ली पिछले तीन दिनों से ‘बहुत खराब’ वायु गुणवत्ता से जूझ रहा है, यहां सुबह आठ बजे पीएम2.5 का औसत स्तर 342 रहा.

सीपीसीबी ने कहा कि हालिया दिनों में इस स्थिति में कोई बदलाव नहीं होने वाला जबकि दिवाली के आसपास यह स्थिति और बिगड़ेगी. सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “अगर आप असाधारण खांसी, सीने में बेचैनी, सांस की घरघराहट या सांस लेने में तकलीफ का सामना कर रहे हैं तो किसी भी कठिन काम को रोकें.

Capture

दिल्ली में कई क्षेत्र ‘अत्यंत या अत्यंत से ज्यादा’ की खराब वायु गुणवत्ता से जूझ रहे हैं. चार सबसे ज्यादा प्रदूषित क्षेत्रों में उत्तरी दिल्ली स्थित जहांगीरपुरी, पश्चिम दिल्ली का मुंडका, दक्षिण दिल्ली का द्वारका उपनगर और पूर्वी दिल्ली का आनंद विहार शामिल है. यहां शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री नीचे 30.4 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान भी सामान्य से एक डिग्री नीचे 15.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. (इनपुट एजेंसी)