लखनऊ: उत्तर प्रदेश के दूरस्थ इलाकों में रह रहे लोगों को इलाज की बेहतर सुविधा मुहैया कराने के लिए जनवरी से टेली मेडिसिन और टेली रेडियोलॉजी की सुविधाओं की शुरूआत की जा रही है. प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में रेडियोलॉजिस्ट के 917 पद स्वीकृत हैं, लेकिन इनमें से महज 107 पद ही अभी भरे हुए हैं. टेली रेडियोलॉजी के माध्यम से रेडियोलॉजिस्ट की कमी पूरी की जाएगी.Also Read - UP: सरकारी स्‍कूल के 5 टीचर्स ने क्‍लास में किया डॉन्‍स, Video Viral होने पर गिरी सस्‍पेंशन की गाज

Also Read - UP Covid Vaccinations: कोविड टीकाकरण 10 करोड़ पार करने वाला पहला राज्य बना यूपी, जानिए टॉप 5 में और कौन?

प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ ने बताया कि जनवरी के तीसरे सप्ताह में ब्लड बैंक एवं उत्तर प्रदेश हेल्थ सिस्टम स्ट्रेन्थनिंग प्रोजेक्ट Also Read - UP: मुख्तार अंसारी के सहयोगी की 4 मंजिला बिल्‍डिंग की जा रही ध्वस्त, इमारत की कीमत 10 करोड़ रुपए

(यूपीएचएसएसपी) के माध्यम से जिन 51 जिला अस्पतालों का उन्नयन किया जा रहा है उनमें से 10 जिला अस्पतालों का लोकार्पण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किया जाएगा. मातृ एवं शिशु अस्पताल, गोरखपुर का दिसम्बर के आखिरी सप्ताह अथवा जनवरी के पहले सप्ताह में शुभारम्भ किया जाएगा.

चमत्कारः अस्पताल से 35 किमी दूर बैठे थे डॉक्टर, रोबोट के जरिए की हृदय की सर्जरी

टेली कंसल्टेंसी और वीडियो कंसल्टेंसी के तौर पर मिलेंगी दो सुविधायें

इस मौके पर एक कॉफी टेबल बुक भी लांच की जाएगी जिसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा पिछले वर्ष से लगातार जेई/एईएस के रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु किये गए कार्यों का जिक्र होगा. सिंह ने बताया कि टेली मेडिसिन के तहत लोगों को टेली कंसल्टेंसी और वीडियो कंसल्टेंसी के तौर पर दो सुविधायें मिलेंगी. टेली रेडियोलोजी में रेडियोलाजिस्ट की निगरानी में एक्सरे, सी.टी. स्कैन, एमआरआई की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी.

28 जिलों में मिलेगी सुविधा

टेली मेडिसिन के अंतर्गत प्रदेश के 28 जनपद कवर होंगे. ये जनपद इलाहाबाद, फतेहपुर, कौशाम्बी, प्रतापगढ़, हमीरपुर, चित्रकूट, कानपुर देहात, भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र, चंदौली, गाजीपुर, जौनपुर, वाराणसी, आजमगढ़, बलिया, मऊ, बस्ती, संत कबीरनगर, सिद्धार्थ नगर, बहराइच, बलरामपुर, गोंडा, श्रावस्ती, देवरिया, गोरखपुर, कुशीनगर तथा महाराजगंज हैं.