नई दिल्ली: चीन में घातक कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या 425 हो गई और इसके 20,438 मामलों की पुष्टि हुई है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. चीन में फैले जानलेवा कोरोना वायरस से निपटने के लिए मात्र 10 दिन में बनाए गए विशिष्ट अस्पताल में सोमवार को मरीजों की भर्ती भी शुरू हो गई. चीन में कोरोनोवायरस महामारी को देखते हुए, भारत सरकार ने बीजिंग में रह रहे चीनी नागरिकों और अन्य लोगों को भारत में उड़ान भरने से रोक दिया है. यह प्रतिबंध मंगलवार से सभी उड़ानों पर प्रभावी होगा.

DGCA-1

DGCA-

भारत में तीसरे कोरोनावायरस के मामले की पुष्टि होने के बाद डीजीसीए द्वारा यह निर्देश दिए गए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि हाल ही में चीन के वुहान विश्वविद्यालय से केरल लौटा एक छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित है. भारतीय दूतावास के मुताबिक, हाल की गतिविधियों के मद्देनजर तत्काल प्रभाव से ई- वीजा के माध्यम से भारत की यात्रा पर रोक लगाई जाती है. यह फैसला चीनी पासपोर्ट धारकों और अन्य देशों के उन आवेदकों पर लागू होगा जो चीन की मुख्य भूमि में रहते हैं. इस तरह से जिन लोगों को पहले ई-वीजा दिया जा चुका है वह अब वैध नहीं होगा.

चीन के वुहान शहर से ही इस वायरस की शुरुआत हुई है और यहां के लोगों के उपचार के लिए बनाए गए 1000 बिस्तरों वाले ह्यूओशेनशान अस्पताल में मरीजों का इलाज शुरू हो गया है. इसके अलावा 1500 बिस्तरों वाला एक अन्य अस्पताल भी जल्द ही काम करना शुरू कर देगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि मामलों में इजाफा होगा क्योंकि हजारों संदिग्ध मामलों में जांच के नतीजे आने अभी बाकी हैं.