नई दिल्ली: आयकर विभाग ने टैक्स नहीं चुकाने वाले ऐेसे 24 व्यक्तियों और इकाइयों की सूचना जारी की है जो या तो फरार हैं या जिन्होंने धन सम्पत्ति के अभाव में कर चुका पाने में असमर्थता प्रकट की है. इन पर लगभग 490 करोड़ रुपए का टैक्स बकाया है. विभाग ने चूककर्ताओं को लज्जित करने की नीति के तहत प्रमुख राष्ट्रीय अखबारों में विज्ञापन देकर उनके नाम सार्वजनिक किए हैं. दिल्ली में प्रधान आयकर महानिदेशक की तरफ से प्रकाशित नोटिस में उनको तत्काल बकाया कर के भुगतान की सलाह दी गई है.Also Read - राजनीतिक बदले के लिए CBI, NCB और आयकर विभाग जैसी संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है केंद्र सरकार : शरद पवार

इस सार्वजनिक घोषणा में कंपनी या व्यक्ति की पहचान, कंपनी के निदेशकों और उनके भागीदारी, कंपनी के गठन की तारीख (व्यक्तियों के संदर्भ में जन्म तिथि), उनके स्थायी खाता संख्या या कर कटौती खाता संख्या (टीएएन), उनके रिकॉर्ड में दर्ज पते, बकाया कर, आकलन वर्ष तथा संबंधित आयकर प्राधिकरण के अधिकार क्षेत्र का जिक्र किया गया है. चूककर्ता कंपनियां खाद्य प्रसंस्करण, सर्राफा कारोबार, सॉफ्टवेयर, रियल एस्टेट और इनगॉट विनिर्माता आदि से जुड़ी हैं. Also Read - Income Tax Saving Investments: कैसे कम करें इनकम टैक्स देनदारी, जानिए- कर देयता को कम करने के अचूक उपाय

सर्वाधिक 86.27 करोड़ रुपए का बकाया दिल्ली की कंपनी मेसर्स स्टाक गुरु और उसकी भागीदार लोकेश्वर देव पर है. नोटिस में कहा गया है कि चूककर्ता का कोई पता नहीं है और कर भुगतान के लिए संपत्ति भी अपर्याप्त है. इन कंपनियों पर बकाया आकलन वर्ष 2009-10 और 2010-11 के हैं. सूची में शामिल कुछ चूककर्ताओं ने आकलन वर्ष 1989-90 के लिए कर का भुगतान नहीं किया. Also Read - महाराष्ट्र तक पहुंची लखीमपुर मामले की आंच, शरद पवार ने 'कड़ी निंदा' को बताया वजह

कोलकाता के अर्जुन सोनकर के ऊपर 51.37 करोड़ रुपए का बकाया है और उसका भी कोई पता नहीं है. उसके बाद कोलकाता के ही किशन शर्मा का नाम है जिन पर 47.52 करोड़ रुपए का बकाया है. कुल 24 इकाइयों पर कर बकाया है. ये इकाइयां अहमदाबाद, गुवाहाटी, विजयवाड़ा, नासिक, सूरत, दिल्ली, वड़ोदरा, कोलकाता तथा अन्य शहरों के हैं.

आयकर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सार्वजनिक सूची का मकसद लोगों को इस बारे में जानकारी देना है ताकि अगर उनके पास कोई सूचना है तो वे इन चूककर्ताओं को पकड़ने में विभाग की मदद कर सकें.