नई दिल्ली: आयकर विभाग ने कांग्रेस के कथित टैक्‍स चोरी से जुड़े मामले में पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल को समन जारी किया है. आईटी विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि पटेल को कांग्रेस के कोषाध्यक्ष के तौर पर उपस्थित होने के लिए नया नोटिस भेजा गया है. Also Read - प्रधानमंत्री की दीये जलाने की अपील भाजपा का छुपा एजेंडा: एचडी कुमारस्वामी

दूसरी तरफ, कांग्रेस ने चुनावी बॉन्ड का मुद्दा उठाते हुए भाजपा पर पलटवार किया और कहा कि विपक्षी पार्टी पर अंगुली उठाने से पहले राजनीतिक चंदे को चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भ्रष्टाचार को संस्थागत व्यवस्था बनाने की जांच होनी चाहिए. Also Read - दिग्विजय सिंह अमर्यादित भाषा वाले आ रहे कॉल्‍स से हुए परेशान, बंद किया मोबाइल फोन

आईटी विभाग के अधिकारियों का कहना है कि विभाग पटेल से पूछताछ कर कांग्रेस की आय, चंदे और खर्च के बारे में समझना चाहता था. उनसे पिछले साल कई स्थानों की तलाशी में बरामद दस्तावेजों के संदर्भ में पूछताछ की जाएगी. Also Read - Coronavirus को लेकर राम गोपाल वर्मा ने किया भद्दा मज़ाक, यूजर्स बोले- थोड़ी तो शरम करो, पुलिस लेगी एक्शन

आयकर विभाग को संदेह है कि इन लेनदेन में अनियमितताएं बरती गईं और इसी को लेकर अतीत में उसने कांग्रेस के कई पदाधिकारियों से पूछताछ भी की.

राज्यसभा सदस्य पटेल को फरवरी महीने में भी आयकर विभाग के समक्ष उपस्थित होने के लिए समन भेजा गया था, हालांकि उन्होंने उस वक्त विभाग को खुद के अस्वस्थ होने की सूचना दी थी. अब उनके अगले माह की शुरुआत में विभाग के समक्ष उपस्थित होने की संभावना है.

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने आयकर विभाग के समन के बारे में पूछे जाने पर भाजपा पर पलटवार किया और कहा, ”हम इंतजार कर रहे हैं कि चुनाव आयोग, आयकर विभाग, सीबीआई और ईडी चुनावी बॉन्ड घोटाले की जांच करें. उन्हें किसी एक पार्टी पर अंगुली उठाने का कोई अधिकार नहीं है, जब सत्ता में बैठी पार्टी ने राजनीतिक चंदे में भ्रष्टाचार को एक संस्थागत व्यवस्था बना दिया.”