भारत लगातार अपनी रक्षा क्षमताओं में इजाफा करता जा रहा है। भारत ने आज ओडिशा तट से दूर एक रक्षा प्रतिष्ठान से सतह से हवा में लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण किया। डीआरडीओ के एक अधिकारी ने बताया कि सुबह करीब 10 बजकर 13 मिनट पर यहां से निकट चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से एक मोबाइल लांचर के जरिए भारत और इस्राइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित लंबी दूरी के मिसाइल का परीक्षण किया गया।Also Read - दुश्मनों के लिए और घातक बना 'आकाश', Video में देखें एडवांस वर्जन 'Akash Prime' ने लक्ष्य को कैसे भेदा

Also Read - AUSW vs INDW Warm-Up Match: Rachael Haynes ने जड़ा अर्धशतक, ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हराया

डीआरडीओ के वैज्ञानिक ने बताया कि परीक्षण सफल रहा और जल्दी ही कुछ और दौर के परीक्षण किए जाने की संभावना है। यह भी पढ़ें: तेज गति रेलगाड़ी टालगो का परीक्षण पूरा Also Read - DRDO Recruitment 2021: DRDO में इन विभिन्न पदों पर बिना परीक्षा मिल सकती है नौकरी, जल्द करें आवेदन, 29000 से अधिक होगी सैलरी

अधिकारी ने बताया, मिसाइल के साथ ही इस प्रणाली में मिसाइल का पता लगाने, उसकी स्थिति पर नजर रखने और उसे दिशा देने के लिए मल्टी फंक्शन सर्विलांस और खतरा चेतावनी रडार (एमएफ स्टार) को भी शामिल किया गया है। उन्होंने साथ ही कहा कि एमएफ स्टार युक्त मिसाइल से उपयोगकर्ता किसी भी हवाई खतरे से निपटने में सक्षम हो पाएंगे।

इससे पहले 30 जून से 1 जुलाई के बीच रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के चांदीपुर बेस से सतह से हवा में मार करने वाले तीन मध्यम दूरी के मिसाइलों का लगातार परीक्षण किया गया था।