बीजिंग. भारत और चीन ने अफगानिस्तान के राजनयिकों को प्रशिक्षित करने के लिए पहला संयुक्त कार्यक्रम शुरू किया है. चीन के वुहान शहर में अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच अनौपचारिक वार्ता के दौरान अफगानिस्तान में संयुक्त कार्यक्रम शुरू करने पर सहमति बनी थी.

बीजिंग में भारतीय दूतावास द्वारा शनिवार को किये गए एक ट्वीट के मुताबिक, अफगानिस्तान के लिए भारत और चीन द्वारा पहला संयुक्त कार्यक्रम शुरू हुआ है. अशांत देश में इस तरह की यह पहली परियोजना है, जहां पर चीन अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा है.

ट्वीट में कहा गया कि अफगानिस्तान में भारत के राजदूत (विनय कुमार) ने 10 अफगान राजनयिकों का स्वागत किया। सभी अफगान राजनयिक भारत, चीन और अफगानिस्तान के बीच त्रिपक्षीय सहयोग के तहत अफगान राजनयिकों के लिए पहले भारत-चीन संयुक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम के वास्ते भारत जाएंगे.