India-China 9th round talks, Eastern Ladakh, India, China, standoff: भारत और चीन (India-China) के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल से जारी जारी सैन्‍य तनाव (military standoff)को कम करने के लिए कल यानि रविवार को कॉर्प्‍स कमांडर सैन्‍य स्‍तर की वार्ता करेंगे. यह बातचीच मोल्डो के सामने चुशुल में होगी. भारत के इलाके में चुशुल में वार्ता के लिए चीन के अधिकारी और भारत के सैन्‍य अधिकारी पूर्वी लद्दाख में पिछले साल से जारी तनाव को कम करने के लिए यह मीटिंग करेंगे.Also Read - मैं Ajinkya Rahane को 2 साल पहले बाहर कर चुका होता... Sanjay Manjrekar ने निकाली भड़ास

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच लगभग आठ महीनों से सीमा पर गतिरोध बना हुआ है. राजनयिक और सैन्य वार्ता के कई दौर हो चुके हैं, लेकिन अब तक कोई बड़ी सफलता हासिल नहीं हुई है. दोनों पक्षों के बीच सैन्य वार्ता के 8वें और अंतिम दौर की बातचीत 6 नवंर को हुई थी, जिसमें दोनों पक्षों ने टकराव वाले सभी बिंदुओं से सैनिकों की वापसी पर व्यापक बातचीत की थी. Also Read - Corona Update: कोरोना से अब तक दुनियाभर में कुल 36 करोड़ लोग संक्रमित, 56 लाख से ज्यादा की मौत

Also Read - IND vs WI: भारतीय टीम के चयन से नाखुश Brett Lee, कहा- तेज गेंदबाजों को आराम देना पसंद नहीं

विदेश मंत्रालय ने कहा था- दोनों देश वार्ता के लिए करीबी संपर्क बनाए हुए हैं
बता दें कि 22 जनवरी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा था कि भारत और चीन ने जल्द ही वरिष्ठ कमांडर-स्तर की बैठक के अगले दौर को आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की है और दोनों पक्ष राजनयिक और सैन्य माध्यमों से करीबी संपर्क बनाए हुए हैं. मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा था, ”दोनों पक्षों ने जल्द ही वरिष्ठ कमांडर स्तर की बैठक के अगले दौर को आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की है और हम इस संबंध में राजनयिक और सैन्य माध्यमों से करीबी संपर्क में हैं. वह संवाददाता सम्मेलन में सैन्य वार्ता के अगले दौर के संबंध में किए गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे.

आर्मी चीफ ने कहा था- लंबे संघर्ष के लिए पूरी तरह तैयार
आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा था कि भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लंबे संघर्ष के लिए पूरी तरह तैयार है. हालांकि उन्होंने इस बात की उम्मीद भी जताई थी कि विगत 9 महीने से जारी गतिरोध का एक मैत्रीपूर्ण समाधान निकलेगा. उन्होंने कहा था कि जहां तक हमारे राष्ट्रीय हितों एवं लक्ष्यों की बात है, तो हम अपनी सरजमीं के एक-एक इंच की रक्षा करने को पूरी तरह से तैयार हैं.

भारत की स्थिति काफी मजबूत
गौरतलब है कि 30 अगस्त, 2020 को भारत ने पैंगोंग लेक के दक्षिणी किनारे पर स्थित रेचिन ला, मुकपारी और टेबलटॉप जैसी महत्वपूर्ण चोटियों पर कब्जा कर लिया था. चीन की तरफ से उकसाने वाली सैन्य कोशिश को देखते हुए भारत ने ब्लैकटॉप के पास अपने कुछ जवानों को तैनात भी कर दिया है. अब यहां की 13 चोटियों पर आधिपत्य के मद्देनजर यहां भारत की स्थिति काफी मजबूत हो गई है.