नई दिल्लीः कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान के साथ रिश्तों में बना तनाव अब भी बरकरार है. इस घटना को लेकर आतंकियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने की बजाय पाकिस्तान कश्मीरी अलगाववादियों के स्वागत में जुटा है. उसने अपने राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर दिल्ली उच्चायोग में होने वाले कार्यक्रम में अलगाववादियों को आमंत्रित किया है. कार्यक्रम में कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को आमंत्रित किए जाने के कारण भारत ने इसका बहिष्कार करने का फैसला किया है. एक अधिकारी ने बताया कि भारत सरकार के अधिकारी 23 मार्च को मनाए जाने वाले पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस की पूर्व संध्या पर होने वाले कार्यक्रम से दूरी बनाए रखेंगे.

अधिकारी ने कहा कि भारत सरकार ने नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग में आयोजित होने वाले पाकिस्तानी राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में किसी भी आधिकारिक प्रतिनिधि को नहीं भेजने का फैसला किया है. उन्होंने बताया कि यह फैसला इसलिए किया गया है क्योंकि पाकिस्तान ने इस कार्यक्रम में जम्मू कश्मीर के अलगाववादी नेताओं को आमंत्रित करने का निर्णय लिया.