ऐसा माना जाता है कि भारत दक्षिण-पश्चिमी हिंद महासागर में सुदूर मॉरीशस द्वीप अगालेगा पर एक नौसैन्य प्रतिष्ठान का निर्माण कर रहा है. एक प्रमुख अरब मीडिया संगठन ने मंगलवार को उपग्रह चित्रण, वित्तीय डाटा और इसके द्वारा एकत्र किए गए जमीनी साक्ष्य का हवाला देते हुए यह दावा किया.Also Read - SCO समिट: PM मोदी ने बढ़ती कट्टरपंथी विचारधारा को लेकर चेताया, अफगानिस्तान का उदाहरण दिया

कतर के अल जजीरा समाचार चैनल ने एक रिपोर्ट में दावा किया कि जिन सैन्य विशेषज्ञों ने इसकी जांच इकाई द्वारा एकत्र किए गए सबूतों का विश्लेषण किया है, उनका कहना है कि अगालेगा में निर्माणाधीन एक हवाई पट्टी का उपयोग लगभग निश्चित रूप से भारतीय नौसेना द्वारा समुद्री गश्ती मिशन के लिए किया जाएगा. Also Read - विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीनी समकक्ष वांग यी से की मीटिंग, पूर्वी लद्दाख में सैनिकों की वापसी पर चर्चा की

अगालेगा, लगभग 12 किलोमीटर लंबा और 1.5 किलोमीटर चौड़ा द्वीप है और यह मॉरीशस के मुख्य द्वीप से लगभग 1,100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहां लगभग 300 लोग रहते हैं. Also Read - Indian Navy Recruitment 2021: भारतीय नौसेना में बिना परीक्षा के ऑफिसर बनने का सुनहरा मौका, कल से आवेदन शुरू, लाखों में होगी सैलरी 

समाचार चैनल ने ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ओआरएफ) थिंक-टैंक, नई दिल्ली के एसोसिएट फेलो अभिषेक मिश्रा के हवाले से कहा, ‘‘यह भारत के लिए एक खुफिया प्रतिष्ठान है, जो दक्षिण-पश्चिम हिंद महासागर और मोजाम्बिक चैनल में निगरानी बढ़ाने के लिए हवाई और नौसैनिक उपस्थिति दर्ज कराता है.’’अल जजीरा की रिपोर्ट के संबंध में भारतीय नौसेना की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.