नई दिल्ली: भारत सरकार ने इस महीने के अंत में न्यूयॉर्क में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच होने वाली बैठक रद्द कर दी है. विदेश मंत्रालय ने एक दिन पहले ही बताया था कि न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के दौरान भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी मुलाकात करेंगे. Also Read - पाक का दोहरा रवैया: अमेरिका ने द्विपक्षीय बातचीत में मदद से इंकार किया तो भारत को धमकाने लगे विदेश मंत्री कुरैशी

Also Read - सार्क सम्मेलन में सुषमा की अनदेखी के बाद पाक विदेश मंत्री ने की अनर्गल टिप्पणी

शुक्रवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि मुलाकात की घोषणा होने के बाद से पाकिस्तान की ओर से दो घटनाएं हुई हैं जो निराशाजनक हैं. पहली, पाकिस्तानी सैनिकों ने शोपियां में भारतीय जवानों की हत्या कर दी और दूसरी घटना गुरुवार को हुई जब पाकिस्तान ने बुरहान वानी सहित 29 आतंकियों के नाम पर डाक टिकट जारी कर दिए. Also Read - पाक विदेश मंत्री ने कहा बैठक रद्द करना दुर्भाग्यपूर्ण, शांति का अवसर बेकार हो गया

प्रवक्ता ने आगे बताया कि बातचीत के प्रस्ताव के पीछे पाकिस्तान की छिपी चाल का पता लग गया है. इसके साथ ही, प्रधानमंत्री पद संभालने के ठीक बाद इमरान खान की वास्तविकता भी सामने आ गई.

पीडीपी को उम्मीद, इमरान खान के वार्ता प्रस्ताव पर जवाब देंगे प्रधानमंत्री मोदी

इससे पहले गुरुवार को रवीश कुमार ने कहा था कि इससे पाकिस्तान के लिए हमारी नीति में किसी तरह के बदलाव का कोई संकेत नहीं मिलता है. पाकिस्तान की ओर से गुजारिश करने के बाद दोनों विदेश मंत्रियों की बैठक का फैसला लिया गया है. यूएनजीए बैठक के दौरान किसी उचित दिन और समय पर दोनों विदेश मंत्री मुलाकात करेंगे. प्रवक्ता ने कहा कि ये महज एक बैठक है, दोनों देशों के बीच रुकी हुई बातचीत शुरू करने की शुरुआत नहीं है.

रिश्तों पर जमी बर्फ पिघलेगी, जल्द होगी भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बैठक

पीएम पद की शपथ लेने के बाद इमरान खान ने कहा था कि आगे बढ़ने के लिए पाकिस्तान और भारत को बातचीत करनी पड़ेगी और कश्मीर सहित सभी मसलों को हल करना होगा. गरीबी को कम करने और उपमहाद्वीप के लोगों को ऊपर उठाने के लिए हमें हमारे मतभेदों को बातचीत और बिजनेस के द्वारा हल करना होगा.