India China Border Standoff: पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी ने 15-16 जून की रात में हुए संघर्ष में चीन ने 10 भारतीय सैनिको को बंधक बना लिया था. इस संघर्ष में भारत के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हुए थे. इस मुद्दे पर दोनों पक्षों के बीच चली वार्ता के बाद चीन ने बंधक बनाए गए भारतीय सैनिकों को रिहा कर दिया है. Also Read - PM मोदी के लद्दाख दौरे पर चीन बोला, किसी भी पक्ष को तनाव नहीं बढ़ाना चाहिए

न्यूज एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि गुरुवार की शाम में चीन की सेना ने भारतीय सेना के दो मेजर सहित 10 सैनिकों को रिहा कर दिया. इस मसले पर तीन दिन चली बातचीत के बाद चीन ने सैनिकों को रिहा किया है. Also Read - PM Narendra Modi reaches Leh: भारत-चीन विवाद के बीच अचानक लेह पहुंचे पीएम मोदी, CDS बिपिन रावत भी साथ में मौजूद

एजेंसी के मुताबिक देनों देशों की सेना के बीच मेजर जनरल स्तर की वार्ता में सैनिकों को रिहा करने पर सहमति बनी. भारतीय सेना और चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने गुरुवार को लगातार तीसरे दिन वार्ता की. दोनों पक्षों ने गलवान घाटी में शांति स्थापित करने को लेकर बातचीत की. Also Read - India-China Border Fight Live Update: रक्षा मंत्री का दौरा स्थगित होने के बाद आज CDS जनरल रावत जा रहे हैं लेह

भारतीय सेना के 10 सैनिकों की रिहाई के बारे में अभी तक आधिकारिक बयान का इंतजार है.

इस बीच गुरुवार को भारतीय सेना ने कहा था कि सोमवार की रात गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ संघर्ष में मौजूद सभी भारतीय सैनिकों की गिनती कर ली गई है. साथ ही इसमें यह भी कहा गया था कि इस संघर्ष में कोई भारतीय सैनिक लापता नहीं हुआ था.

इस बीच सैन्य सूत्रों ने गुरुवार को कहा था कि चीन की सेना के साथ संघर्ष में भारत के 76 जवान घायल हुए हैं. इनका इलाज चल रहा है. इसमें से 18 की स्थिति गंभीर है, जबकि 58 को मामूली चोट है.