भारत और चीन के शीर्ष सैन्य कमांडरों के बीच सोमवार को हुई बैठक के दौरान दोनों देशों की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले स्थानों से हटने पर सहमति बनी है. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी.Also Read - चीन की ओर से पैंगोंग लेक पर पुल के अवैध निर्माण पर भारत ने जताया कड़ा विरोध

उन्होंने बताया कि यह बातचीत, ‘‘सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक माहौल’’ में हुई और यह निर्णय लिया गया कि दोनों पक्ष पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से हटने के तौर तरीकों को अमल में लाएंगे. Also Read - चीन की सत्‍तारूढ़ CPC ने माना, पीपल्स लिबरेशन आर्मी पर उसका नियंत्रण कुछ समय के लिए कमजोर पड़ा था

भारत और चीनी सेना के बीच पिछले हफ्ते गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद तनाव कम करने के उद्देश्य से सोमवार को 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बत सैन्य जिला कमांडर मेजर जनरल ल्यू लिन के बीच करीब 11घंटे तक बातचीत हुई. Also Read - India-China Border: अब भारत का बॉर्डर पार करना चीन के लिए मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है, जानिए कैसे

सूत्र ने बताया,‘‘ टकराव से पीछे हटने पर आपसी सहमति बनी है. पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से हटने के तौर तरीकों पर चर्चा की गई और दोनों पक्ष द्वारा इन्हें अमल में लाया जाएगा.’’