नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच LAC पर तनाव लगातार जारी है. इस बीच तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच आज बैठक होने वाली है. बता दें कि इस बैठक में दोनों देशों के कॉर्प कमांडर भाग लेंगे. इस बैठक का आयोजन LAC पर किया जाएगा. संभावित है कि भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच तनाव को कम करने के भारत की तरफ से कुछ प्रस्ताव भी दिए जाएंगे. साथ ही भारत द्वारा अप्रैल माह की तरह स्थिति को बरकरार रखने को लेकर चीनी सेना को प्रस्ताव दिया जाएगा. साथ ही LAC से चीनी सेना, तोप और बख्तरबंद गाड़ियों को सीमा से हटाने को लेकर भी प्रस्ताव दिया जा सकता है. Also Read - पीएम मोदी के बयान से 'विस्तारवादी' चीन को लगी मिर्ची, कहा- 'हमने 12 पड़ोसी देशों के साथ सीमा विवाद सुलझाया'

बता दें कि बीते दिनों प्योंगोंग झील यानी गलवान वैली में चीनी सेना द्वारा भारतीय सीमा में प्रवेश करने के बाद से ही विवाद बढ़ा हुआ था. बता दें कि इस बैठक में प्योंगोंग त्सो पर भी भारत का फोकस रहेगा. इस दौरान भारत की तरफ से चीन को प्रस्ताव दिया जाएगा कि वे फिंगर 4 से अपनी सेना और सभी लड़ाई के साजो-सामान को पीछे कर लें. साथ ही चीन द्वारा माने जा रहे विवादित क्षेत्रों में भारतीय सेना द्वारा निर्माण कार्य जारी रखने व किसी तरह की चीनी सैनिकों द्वारा रोक टोक न किए जाने को लेकर भी बातचीत हो सकती है. Also Read - विराट कोहली ने शुरू किया वर्कआउट; खोला अपनी फिटनेस का राज

बता दें कि दोनों देशों के कॉर्प कमांडर स्तर के अधिकारियों की बैठक लद्दाख स्थित मेल्डो में आयोजित की जाएगी. इस बैठक की शुरुआत सुबह 9 बजे से होगी. गौरतलब है कि बीते 5 मई से दोनों सेनाओं के बीच लगातार टकराव की खबरें आती रहती हैं. ऐसे में बीते दिनों दोनों सेनाओं के बीच हाथापाई की नौबत भी आई थी. इस दौरान दोनों सेनाओं के कई जवान घायल भी हुए थे. साथ ही अमेरिका द्वारा मध्यस्थता के प्रस्ताव को भारत और चीन दोनों ने ही ठुकरा दिया था. Also Read - सबूतों की कमी की वजह से श्रीलंका क्रिकेट ने 2011 विश्व कप 'मैच फिक्सिंग' जांच बंद की