India China tension: पिछले कई दिनों से भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर काफी गर्माहट है. दोनों देशों के बीच लद्दाख बॉर्डर के मसले को सुलझाने के लिए राजनैतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है. दोनों ही देशों ने इस बात पर सहमति जताई है कि इस मामले को बात चीत के माध्यम से ही सुलझाया जाए. भारत और चीन के बीच कमांडर स्तर की बातचीत (commander level talk between china and India) आज सुबह शुरू हो चुकी है. भारत और चीन के बीच यह बातचीत लद्दाख के चुशूल के पास चीन की सीमा मे स्थित मोल्दो में हो रही है. चीन ने दोनों देशों के बीच बातचीत से पहले एक बड़ा बदलाव किया है. चीन इस मीटिंग से ठीक पहले अपना कमांडर बदल दिया है. Also Read - Effect of TikTok Ban in India: भारत में TikTok बैन से चाइनीज कंपनी को बड़ा झटका, करीब 6 अरब डॉलर के नुकसान का अनुमान

India China Border Meeting Also Read - आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री का बड़ा बयान, बोले-उनकी सरकार हांगकांग के निवासियों को पनाह देने के लिए विचार कर रही

बता दें कि आज की मीटिंग में भारत की तरफ के कुल दस अफसर शामिल होंगे. इस दल का नेृतृत्व दल का नेतृत्व लेह स्थित 14 वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे. चीन ने बातचीत से ठीक पहले अपने कमांडर को बदल दिया है. अब चीन की तरफ से नए कमांडर शू चिलिंग बात करेंगे.  भारत औरचीन के बीच किसी भी विवाद पर ऐसा पहली बार हो रहा है जब बॉर्डर मसले को  सुलझाने के लिए थ्री स्टार ऑफिसर आपस में बात कर रहे हैं. चीन ने अपने कमांडर को क्यों बदला इस पर उसकी तरफ से फिलहाल अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. Also Read - PM Narendra Modi reaches Leh: भारत-चीन विवाद के बीच अचानक लेह पहुंचे पीएम मोदी, CDS बिपिन रावत भी साथ में मौजूद

India China Border Clash

सूत्रों ने बताया कि भारत इस चर्चा के दौरान चीन से गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग और पेंगांग झील के फिंगर 4 से पीछे हटने की मांग को उसके सामने रखेगा. पेंगांग झील (Pangong Lake) के मुद्दे पर भारत एक इंच भी झुकने के लिए या फिर किसी भी तरह के समझौते से साफ इंकार कर चुका है.

China-India LAC Conflict

बात दें कि आज की मीटिंग से पहले दोनों देशों ने शुक्रवार को पूर्वी लद्दाख में अपने सैन्य गतिरोध को दूर करने के उद्देश्य से शुक्रवार को राजनयिक वार्ता की. दोनों देशों ने एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंता एवं आकांक्षाओं का सम्मान करने तथा इन्हें विवाद नहीं बनने देने पर भी सहमति जतायी.