India China ladakh Tension: लद्दाख बॉर्डर मामले पर भारत और चीन के बीच इस समय भारी तनाव चल रहा है. दोनों ही देश अपने अपने क्षेत्र में भारी मात्रा में सैनिकों की तैनाती कर रहे हैं. दोनों ही देशों की तरफ से इस मामले को सुलझाने के लिए डिप्लोमैटिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है. इसी बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक ट्वीट सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है.Also Read - Ladakh Standoff: लद्दाख में डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया शुरू, LAC पर सहमति के बाद पीछे हट रहीं भारतीय और चीनी टैंकें - देखें Video

पीएम मोदी का यह ट्वीट उस समय का है जब वे गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री थे. उन्होंने यह ट्वीट 2013 में किया था. इस ट्वीट में उन्होंने केंद्र की यूपीए सरकार पर निशाना साधा था. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा था कि आखिर पाकिस्तान और चीन द्वारा भारतीय सीमाओं में घात लगाने के मामले में यूपिए सरकार कब जागेगी. Also Read - चीन और भारत के सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में पीछे हटना शुरू किया : चीनी रक्षा मंत्रालय

हालांकि आज जो हालात हैं उसमें सरकार की तरफ से कई बार यह बयान दिया जा चुका है कि देश सुरक्षित हाथों में है. हाल ही में गृह मंत्री अमित शाह ने भी कहा था कि भारत सरकार किसी भी सूरत में अपनी सीमाओं के साथ किसी भी तरह का उल्लंघन बर्दाश्त नहीं करेगी. Also Read - नए साल में खत्म होगा भारत-चीन सीमा पर तनाव? नौवें दौर की कमांडर स्तर की वार्ता के लिए चर्चा

लोग लगातार इस ट्वीट को वायरल कर के मांग कर रहे हैं कि सरकार को चीन के संबंध में कुछ कड़े कदम उठाने की जरूरत है. इस पूरे मुद्दे पर एक चैनल से बात करते हुए अमित शाह ने कहा था कि सरकार किसी भी हाल में इसे हल्के में नहीं ले रही है. हम राजनैतिक और सैन्य दोनों स्तर पर बात कर रहे हैं.

गृह मंत्री अमित शाह ने यह भी स्पष्ट तौर पर कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार भारतीय सीमाओं को लेकर किसी भी तरह का समझौता नहीं करेगी और देश पूरी तरह से सुरक्षित है और हम पूरी तरह से अपने देश की सीमाओं को लेकर प्रतिबद्ध हैं.