नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने बुधवार को एक बार फिर स्पष्ट किया कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य अंग है. चीन को इस तथ्य के बारे में कई बार बताया जा चुका है. लोकसभा में एक प्रश्न के जवाब में विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने कहा कि भारत और चीन के बीच की अंतरराष्ट्रीय सीमा को चीन विवादित मानता है. चीन पूर्वी क्षेत्र में अरुणाचल प्रदेश के करीब 90 हजार वर्ग किलोमीटर भारतीय भूभाग पर अपना दावा करता है. Also Read - चीन के खिलाफ डोनाल्ड ट्रंप क्यों करते हैं बातें, चीन ने ही बताई वजह

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, लोकसभा सत्र के दौरान सांसद कौशलेन्द्र कुमार ने चीन के अरुणाचल प्रदेश को अपना हिस्सा बताने को लेकर प्रश्न पूछा था. बुधवार को प्रश्न के लिखित उत्तर में विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा कि अरूणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य अंग है. चीन को इस तथ्य से कई अवसरों पर अवगत कराया जा चुका है. उन्होंने कहा कि सरकार को देश की सुरक्षा जरूरतों की पूरी जानकारी है और वह सीमा क्षेत्रों के साथ-साथ सुरक्षा संबंधी समस्त चुनौतियों से निपटने और उनका सामना करने के लिए तैयार रहती है. बता दें कि चीन ने कई बार अरूणाचल प्रदेश में भारतीय नेताओं की यात्रा पर विरोध दर्ज कराया है, जिसमें पिछले महीने प्रधानमंत्री की राज्य की यात्रा शामिल है. उस समय भी भारत ने स्पष्ट किया था कि अरूणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है और लोगों को पूर्वोत्तर के राज्यों में जाने का पूरा अधिकार है. Also Read - लद्दाख गतिरोध: भारत-चीन ने जारी किया संयुक्त बयान, फ्रंटलाइन पर और जवान नहीं भेजेंगे दोनों देश, जारी रहेगी वार्ता

Also Read - डोकलाम विवाद के बाद डरा चीन! LAC पर अपने हवाई रक्षा ठिकानों, हेलीपोर्ट की संख्या दोगुनी की