खुश देशों की लिस्ट में फिनलैंड सबसे ऊपर और बुरूंडी सबसे नीचे है. वहीं, पाकिस्तान का रैंक भारत से ऊपर है. यह जानकारी संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी एक रिपोर्ट में दी गई है. यह स्टडी 156 देशों में की गई है. अमेरिका और ब्रिटेन इस सूची में क्रमश: 18 वें और19 वें नंबर पर हैं. ये नतीजे छह महत्वपूर्ण कारकों पर आधारित हैं जिसमें आय, स्वस्थ जीवन प्रत्याशा, सामाजिक समर्थन, स्वतंत्रता, विश्वास और उदारता को पैमाना बनाया गया है.Also Read - सर्वदलीय बैठक: विपक्षी दलों ने उठाए पेगासस, महंगाई, किसान और चीन सहित कई मुद्दे; MSP पर कानून बनाने की मांग

पिछले साल 2017 में भारत 4 स्थान पिछे लुढ़का था. वहीं इस साल वह 11 स्थान गिर 133 वें नंबर पर आ गया है. वहीं, आतंक के साए में जी रहे पाकिस्तान ने पांच रैंक की छलांग लगाई है और वह 75वें नंबर पर पहुंच गया है. Also Read - पूर्व भारतीय क्रिकेट का बड़ा खुलासा, जिंदगी भर 'रंगभेद' का सामना किया

पाकिस्तान ही नहीं भारत के दूसरे पड़ोसी देश भी ज्यादा खुश हैं. बांग्लादेश, भूटान, नेपाल और श्रीलंका का भी भारत से बेहतर रैंक है. वहीं, सरकार के अधीन चीन भी भारत से ज्यादा खुश है. लिस्ट में टॉप-10 में नॉर्वे, डेनमार्क, आइसलैंड, स्विटजरलैंड, नीदरलैंड, कनाडा, न्यूजीलैंड, स्वीडन और ऑस्ट्रेलिया का नाम शामिल है. Also Read - Omicron Variant का खतरा: केंद्र सरकार ने की हाई लेवल मीटिंग, इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर निर्णय की फि‍र समीक्षा कर सकता है भारत

लैटिन अमेरिका की बात की जाए तो इसके आंकड़े चौंकाने वाले हैं. रिपोर्ट के मुताबिक लैटिन अमेरिका में पिछले कुछ सालों की तुलना में अपराध और भ्रष्टाचार बढ़ा है उसके बावजूद वह लोगों की पसंद बना हुआ है. वहीं अगर दुनिया के टॉप-10 अनहैप्पी देशों की बात की जाए तो उसमें सबसे पहले दक्षिण पूरिव अफ्रीका के मलावी का नाम आता है. उसके बाद हैती, लाइबेरिया, सीरिया, रवांडा, यमन, तंजानिया और साउथ सूडान का नाम आता है.