Digital Intelligence Unit: देश में लगातार ऑनलाइन फ्रॉड के मामले बढ़ते जा रहे हैं जिनपर शिकंजा कसने के लिए केंद्र सरकार कड़ा कदम उठाने जा रही है. सरकार ने अनचाहे कॉल्स और ऑानलाइन फ्रॉड के जरिए आए दिन होने वाली धोखाधड़ी व अनचाही कॉल की रोकथाम के लिए डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट (Digital Intelligence Unit) के गठन का निर्णय लिया है. सोमवार को टेलीकॉम मंत्री रवि शंकर प्रसाद की अध्यक्षता में हुई बैठक में ये फैसला लिया गया है.Also Read - Supreme Court: सरकारी नौकरियों में SC/ST को प्रोमोशन में आरक्षण पर कोर्ट का फैसला-मानकों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे

देश में इन दिनों फर्जी कॉल और टेक्स मैजेस भेजकर ठगी का धंधा बड़े पैमाने पर चल रहा है, लेकिन ऐसे अपराध को अंजाम देने वालों की अब खैर नहीं है. अब सरकार फ्रॉड मैनेजमेंट और कंजूमर प्रोटेक्शन के लिए एक पोर्टल बनाने जा रही है, जिनके माध्यम से ग्राहक टेलीकॉम कंपनियों को अनचाहे कॉल, एसएमएस और वित्तीय धोखाधड़ी की शिकायत कर सकेंगे. इसके तहत ग्राहकों को अनचाहे कॉमर्शियल कॉल या एसएमएस भेजने वाली कंपनियों पर जुर्माने का प्रावधान किया जा रहा है. Also Read - IREDA Equity Investment Approval: कैबिनेट ने इरेडा में 1,500 करोड़ के इक्विटी निवेश को दी मंजूरी, बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

देश के दो शहर हैं सरकार की रडार पर 
सरकार को ऐसी जानकारी मिली है कि फर्जी कॉल का धंधा मुख्यतौर पर देश के दो शहरों से चलाया जा रहा है. ये है हरियाणा में मेवात और झारखंड में जामताड़ा. कहा जा रहा है कि इन दो शहरों में टेलीकॉम सेवाओं को बंद करने को लेकर विचार किया जा रहा है. बता दें कि झारखंड के जामताड़ा में साइबर ठगों का जाल बिछा है. कई फर्जीवाड़े के मामलों के तार जामताड़ा से जुड़े हुए थे. Also Read - How to Save Income Tax: अगर आपको सालाना मिलती है 10 लाख रुपये सैलरी, तो टैक्स कर सकते हैं शून्य, यहां जानें- कैसे बचाएं टैक्स?

धोखेबाजों पर की जाएगी कठोर कार्रवाई
इस बारे में की गई बैठक में ये तय किया धोखेबाजों को किसी का भी पैसा नहीं हड़पने नहीं दिया जाए. मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि वित्तीय धोखाधड़ी के लिए दूरसंचार साधनों का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है. इनके जरिए आम आदमी की गाढ़ी कमाई को हड़पा जा रहा है. उन्होंने निर्देश दिया कि ऐसे गलत कामों को रोकने के लिए कठोर दंडनीय कार्रवाई की जाए.

Do Not Disturb के बाद भी आ रहे कॉल
बता दें कि TRAI की कोशिशों के बावजूद अनचाही कॉल्स  नहीं रुक रही है. अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कॉमर्शियल कॉल की संख्या बढ़ने की बात कही गई. अधिकारियों ने कहा कि ग्राहकों द्वारा डु नॉट डिस्टर्ब (डीएनडी) में रजिस्ट्रेशन करा दिए जाने के बावजूद भी उसी नंबर से लगातार कॉमर्शियल कॉल और एसएमएस आते रहते हैं.