वाशिंगटन: विदेश मंत्री एस जयंशकर ने अमेरिकी के वाशिंगटन डीसी में एटलांटिक काउंसिल इवेंट में बोलते हुए कहा कि अंग्रेज भारत से आज के मुकाबले 45 ट्रिलियन डॉलर लूटकर ले गए. उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों द्वारा भारत को दो सौल साल तक लूटा जाता रहा. वे लुटेरे बनकर 18वीं शताब्दी के मध्य में भारत में आए थे. एस जयंशकर ने कहा, “पश्चिम द्वारा भारत को दो सौल साल तक अपमानित किया गया. वे शिकारी बनकर 18वीं शताब्दी के मध्य में भारत में आए थे.”

विदेश मंत्री ने कहा, “एक आर्थिक अध्ययन ने यह अनुमान लगाने की कोशिश की कि ब्रिटिश भारत से कितना खजाना निकालकर ले गए. अध्ययन के मुताबिक ये आज के समय में 45 ट्रिलियन डॉलर बैठ रहा है.” विदेश मंत्री एस जयंशकर एटलांटिक काउंसिल इवेंट में अमेरिकी के वाशिंगटन डीसी में बोल रहे थे.


गौरतलब है कि सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी की वैश्विक रैंकिंग में भारतीय अर्थव्यवस्था पांचवें स्थान से फिसलकर सातवें नंबर पर आ गई है. भारतीय जीडीपी 2.65 ट्रिलियन डॉलर की है. हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर बनाने का लक्ष्य रखा.

इससे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को कहा कि अमेरिका की घरेलू राजनीति के मामले में भारत तटस्थ रहा है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ह्यूस्टन में आयोजित ‘हाउडी मोदी’ रैली के दौरान सिर्फ अमेरिकी राष्ट्रपति के समर्थकों द्वारा 2016 में उनके पक्ष में चुनाव प्रचार के दौरान इस्तेमाल किये गए नारे ‘‘अबकी बार ट्रम्प सरकार’’ का उल्लेख कर रहे थे. वाशिंगटन की तीन दिवसीय यात्रा पर आए जयशंकर ने इस बात को सिरे से नकार दिया कि प्रधानमंत्री ने 2020 के चुनाव अभियान के लिए ट्रम्प की उम्मीदवारी का समर्थन करने के लिए ऐसा कहा था.