नई दिल्ली: पाकिस्तान ने कोरोना वायरस पर दक्षेस देशों की वीडियो कांफ्रेंस का इस्तेमाल रविवार को कश्मीर मुद्दा उठाने में किया. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के स्वास्थ्य मामलों पर विशेष सहायक जफर मिर्जा ने कहा कि कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये जम्मू कश्मीर में सभी तरह की पाबंदी को हटा लेना चाहिए. पाकिस्तान की ओछी हरकत पर भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई ने भारत सरकार से जुड़े सूत्रों के हवाले से बताया कि विडियो कॉन्फ्रेंसिंग में पाकिस्तानी प्रतिनिधि की टिप्पणी इस लायक नहीं है कि उस पर कोई प्रतिक्रिया दी जाए. पाकिस्तान की टिप्पणी दिखाती है कि वह क्या है. Also Read - राजस्थान में कोरोना से एक और व्यक्ति ने तोड़ा दम, प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 210 पर पहुंचा 

गौरतलब है कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संवाद में मिर्जा के अलावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अतिरिक्त श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे, मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी शामिल हुए. Also Read - Covid-19 : उत्तर प्रदेश के इस शहर से एक और तबलीगी जमाती पाया गया कोरोना पॉजिटिव

मिर्जा ने कहा, ‘‘स्वास्थ्य में समानता सार्वजनिक स्वास्थ्य का एक मूल सिद्धांत है. इस संबंध में, मुझे कहना है कि यह चिंता का विषय है कि जम्मू कश्मीर से कोविड-19 के मामले दर्ज किये गये हैं और स्वास्थ्य आपात स्थिति में यह जरूरी है कि वहां तत्काल सभी पाबंदियों को हटा लेना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘संचार और आवाजाही को खोले जाने से सूचना का आदान-प्रदान होगा, दवाइयों के वितरण और रोकथाम की अनुमति होगी.’’ Also Read - जमातियों ने कानपुर अस्पताल के कर्मचारियों संग किया दुर्व्यवहार, हटाई गईं महिला नर्सें

पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने का प्रयास करता आया है लेकिन भारत ने कहा है कि अनुच्छेद 370 को हटाया जाना उसका ‘‘आंतरिक मामला’’ है. भारत ने कहा था कि पाकिस्तान सच्चाई को स्वीकार करे और भारत विरोधी बयानबाजी को रोके.

(इनपुट भाषा)