बिश्केक: भारत और किर्गिस्तान ने रविवार को रक्षा और संस्कृति सहित चार महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इससे पहले भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति अलमाजबेक अतमबायेव ने यहां बातचीत की। समझौते के बाद मोदी-अतमबायेव के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक अला-अर्का स्टेट रेसीडेंस में हुई। यह भी पढ़े:नरेंद्र मोदी ने बिश्केक में विजय स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की Also Read - PM नरेंद्र मोदी अब भी हैं दुनिया के सबसे अधिक स्वीकार्य नेता, देखें ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग में क्या आया सामने

Also Read - पीएम मोदी और शिवराज सिंह चौहान के बीच 80 मिनट तक हुई बातचीत, जानें क्यों हुई इतनी लंबी मीटिंग

रक्षा समझौते के तहत रक्षा, सुरक्षा, सैन्य शिक्षण तथा प्रशिक्षण, संयुक्त सैन्य अभ्यास, अनुभवों तथा सूचनाओं के आदान-प्रदान, सैन्य निर्देश तथा पर्यवेक्षण के आदान-प्रदान से संबंधित मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने की बातें शामिल हैं। Also Read - VivaTech 2021: पीएम नरेंद्र मोदी आज करेंगे संबोधित, मार्क जुकरबर्ग और टिम कुक भी होंगे शामिल

दूसरा समझौता ज्ञापन (एमओयू) चुनाव के क्षेत्र में आपसी समझ तथा सहयोग पर आधारित है। तीसरा एमओयू किर्गिस्तान के आर्थिक मंत्रालय और ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड ऑन कोऑपरेशन के बीच हुआ। वहीं, चौथा समझौता संस्कृति पर आधारित है।