नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके नेपाली समकक्ष के पी शर्मा ओली ने मंगलवार को सीमा के निकट जोगबनी-विराटनगर में दूसरी एकीकृत निगरानी चौकी का संयुक्त रूप से उद्घाटन किया. भारत नेपाल सीमा पर स्थित इस निगरानी चौकी का उद्घाटन वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए किया गया. Also Read - भारत में कोरोना संक्रमण ने फिर पकड़ी रफ्तार, 24 घंटे में COVID-19 के 14,989 नए केस आए

इसका निर्माण व्यापार और लोगों की आवाजाही की सुगमता के लिए भारत की सहायता से किया गया है. एकीकृत चौकी 260 एकड़ क्षेत्र में फैली है और यहां की क्षमता प्रतिदिन 500 ट्रक है. परियोजना की लागत 140 करोड़ रुपये आई है. इससे व्यापार में सुधार होगा तथा जनता के बीच संपर्क बेहतर होगा. Also Read - मैरीटाइम इंडिया समिट 2021: पीएम मोदी ने कहा- भारत विकास कर रहा है, दुनिया के देश आएं और इसका हिस्सा बनें

पहली एकीकृत निगरानी चौकी का निर्माण वर्ष 2018 में रक्सौल-वीरगंज में हुआ था. दोनों देशों के प्रधानमंत्री ने वर्ष 2015 में आए भूकंप के बाद नेपाल में भारत की सहायता से बनाए गए घरों के निर्माण की प्रगति को देखा. भारत ने गोरखा और नुवाकोट जिलों में 50,000 घरों के निर्माण की प्रतिबद्धता व्यक्त की थी जिसमें से 45,000 घर पूरे कर लिये गए हैं. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ओली ने मोदी को नेपाल आने का न्योता दिया. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वह इस वर्ष पड़ोसी देश के दौरे पर जाने का विचार कर रहे हैं. Also Read - गुलाम नबी आज़ाद और पीएम मोदी की 'दोस्ती' पर कांग्रेस में बवाल शुरू, पुतला फूंका गया, कार्यकर्ता बोले...

(इनपुट-भाषा)