नई दिल्ली: राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय संसदीय अध्यक्षों की बैठक में कश्मीर का मुद्दा उठाने की पाकिस्तान की कोशिश का विरोध करते हुए कहा कि पड़ोसी देश “आतंकवादियों का जाना पहचाना निर्यातक और आतंकवाद का केन्द्र हैं.

हरिवंश ने कजाखस्तान में यूरेशियाई संसदीय अध्यक्षों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान यह मुद्दा उठाकर बैठक के एजेंडे की दिशा बदलना चाहता है. उन्होंने पाकिस्तान पर जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से पर अवैध तरीके से कब्जा जमाने और स्थानीय लोगों के आत्म सम्मान और पहचान को खत्म करने का आरोप लगाया.

अमेरिका: ट्रंप ने पीएम मोदी को कहा ‘फादर ऑफ इंडिया’, बताया भारत का महान नेता

उन्होंने पाकिस्तान के बयान को बेहद गैर-जिम्मेदाराना करार देते हुए कहा, “हमें लगता है कि वह इस बैठक को का ध्यान मूल मुद्दे से हटाना चाहते हैं और ऐसे मुद्दे उठा रहे हैं जो न सिर्फ इस मंच की विषयवस्तु से पूरी तरह से अलग हैं बल्कि स्पष्ट रूप से हमारा आंतरिक मामला भी है.” भारत द्वारा जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के प्रावधान को रद्द करने के बाद पाकिस्तान बार-बार अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कश्मीर मुद्दे को उठाने की कोशिश कर रहा है.