बालेश्वर (ओडिशा): भारत ने ओडिशा तट से रविवार को परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम लंबी दूरी की मारक क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-4 का सफल परीक्षण किया. यह मिसाइल 4,000 किलोमीटर की दूरी तक का लक्ष्य भेदने में सक्षम है. यह परीक्षण सेना ने प्रायोगिक परीक्षण के रूप में किया. परीक्षण को पूर्ण सफल करार देते हुए उन्होंने कहा कि परीक्षण के दौरान मिशन के सभी उद्देश्य प्राप्त कर लिए गए. सभी रडार, ट्रैकिंग सिस्टम और रेंज स्टेशनों ने मिसाइल के उड़ान प्रदर्शन पर निगरानी रखी, जिसे एक मोबाइल लॉन्चर से दागा गया. बता दें कि दिसंबर की शुरुआत में अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया गया था.Also Read - India vs England, 5th Test: खुशखबरी! साल 2022 में इस मैदान पर खेला जाएगा भारत-इंग्लैंड के बीच 5वां टेस्ट

Also Read - कौन हैं स्नेहा दुबे? UNGA में इमरान खान को जमकर लगाई फटकार, दुनिया के सामने खोलकर रख दी पाकिस्तान की पोल

इंडोनेशिया में अचानक आई सुनामी, मृतकों की संख्या 168 हुई, 700 से ज्यादा लोग घायल Also Read - UNGC में भारत ने पाक के कश्‍मीर राग अलापने और गिलानी को शहीद को बताने पर किया पलटवार

रक्षा सूत्रों ने बताया कि सतह से सतह पर मार करने वाली इस सामरिक मिसाइल का परीक्षण डॉ अब्दुल कलाम द्वीप स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र (आईटीआर) के लॉन्च पैड संख्या-4 से सुबह करीब 8:35 बजे किया गया.

*ओडिशा के एपीजे अब्दुल कमला आइलैंड के 4 नंबर के लॉन्च पैड से रविवार सुबह 8:30 बजे मिसाइल का परीक्षण किया गया

* मिसाइल की लंबाई 20 मीटर और वजर 17 टन है

* अग्नि4 की मारक क्षमता 4000 किलोमीटर है

* उड़ान की गड़बड़ी को खुद सही करने और मार्गदर्शन करने जैसी नवीनतम विशेषताएं

* यह अत्याधुनिक एविओनिक्स, 5वीं पीढ़ी के ऑनबोर्ड कंप्यूटर तकनीकी से सक्षम

अग्नि-4 मिसाइल का यह सातवां परीक्षण था. इससे पहले भारतीय सेना की सामरिक बल कमान (एसएफसी) द्वारा इसी स्थान से दो जनवरी 2018 को इसका सफल परीक्षण किया गया था. रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि मिसाइल का परीक्षण उपयोगकर्ता प्रशिक्षण अभ्यास के भाग के रूप में किया गया है.

मिसाइल में उड़ान की गड़बड़ी को खुद सही करने और मार्गदर्शन करने जैसी नवीनतम विशेषताएं हैं. यह अत्याधुनिक एविओनिक्स, 5वीं पीढ़ी के ऑनबोर्ड कंप्यूटर और विस्तृत आर्किटेक्चर से लैश है.