India, DRDO , Vertically Launched Short Range Surface to Air Missile, VL-SRSAM,  Naval Warship, Indian Navy: भारत (India) ने एक मंगलवार को एक खास मिसाइल का सफलता पूर्वक परीक्षण किया है. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO)ने भारतीय नौसेना के युद्धपोतों (naval warships) के एक खास मिसाइल तैयार की है, जिसका आज सफल परीक्षण किया गया है. डीआरडीओ ने वर्टिकली शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (Shorthort Range Surface to Air Missile) VL-SRSAM) का आज ओडिशा के तट से सफल परीक्षण किया है. नेवी के युद्धपोतों (naval warships) के लिए बनाई गई यह इस मिसाइल करीब आए दुश्‍मन या उसके लक्ष्‍यों को आसानी से मार गिरा सकेगी.Also Read - हूती विद्रोहियों ने अबू धाबी पर दागी दो बैलिस्टिक मिसाइलें, इंटरसेप्टर ने बीच में ही रोकीं

Also Read - DRDO Recruitment 2022: ग्रेजुएट्स के लिए सरकारी नौकरी का मौका, चेक करें योग्‍यता और आवेदन प्रक्र‍िया

वायु रक्षा प्रणाली शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (VL-SRSAM) की सबसे खास बात यह है कि यह लगभग 15 किमी की दूरी पर लक्ष्य को भेद सकती है. DRDO द्वारा इसे नौसैनिक युद्धपोतों के लिए विकसित किया जा रहा है. Also Read - Mumbai में भारतीय नौसेना के जहाज INS Ranvir पर हुए विस्‍फोट में 3 नौसैनिकों ने गंवाई जान

बता दें कि नौसेना ने 2027 तक 170 पोत वाला बल बनने का लक्ष्य रखा है. वर्तमान में नौसेना के पास लगभग 130 युद्धपोत हैं. हाल ही में नेवी प्रमुख एडमिरल हरि कुमार ने ने कहा था, नौसेना के 170 युद्धपोत वाला बल बनने की योजना की 10 वर्षीय एकीकृत क्षमता विकास योजना (आईसीडीपी) के तहत आवश्यकता की समीक्षा करने के लिए एक नई वैज्ञानिक प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है, जिसके बाद निर्णय किया जाएगा. उन्होंने कहा, 230 (पोत) भी हो सकते हैं, 300 भी, यह प्रक्रिया जारी है. यह वैज्ञानिक प्रक्रिया है. मैं आपको इस समय कोई निश्चित संख्या नहीं बता सकता. प्रक्रिया पूरी होने के बाद हम किसी निर्णय पर पहुंचेंगे.

डीआरडीओ द्वारा नौसैनिक युद्धपोतों के लिए विकसित की जा रही यह वर्टिकली लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (VL-SRSAM) इन युद्धपोतों के लिए बहुत उपयोगी होगी.