भुवनेश्वर: भारत ने मंगलवार को ओडिशा तट से कम दूरी की ‘जमीन से हवा में मार करने वाली क्विक रिएक्शन सरफेस मिसाइल’ (क्यूआरएसएएम) का सफल परीक्षण किया. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन’ (डीआरडीओ) ने बालासोर जिले के चांदीपुर प्रक्षेपण केंद्र से दो मिसाइलों का परीक्षण किया. Also Read - स्पॉन्सरशिप से हटा चाइनीज ब्रांड, अब BCCI करेगा 10 करोड़ रुपये की मदद

Also Read - संयुक्त राष्ट्र पहुंचा 'नए आईटी नियमों' का मामला, भारत ने कहा- हितधारकों के साथ बातचीत के बाद बनाए नियम

  Also Read - राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं कोरोना की 3.06 करोड़ से अधिक टीके, 4 लाख और भेजने की तैयारी

सूत्रों के अनुसार, मिसाइलें एक घूमने वाले ट्रक-आधारित प्रक्षेपण यूनिट पर स्थित एक घुमावदार कनस्तर से दागी गईं. सूत्रों ने बताया कि 30 किलोमीटर की मारक क्षमता वाली मिसाइल हवाई लक्ष्यों, टैंकों और बंकरों को ध्वस्त करने में सक्षम है. यह सफलता नियंत्रण रेखा के पार स्थित आतंकवादी शिविरों पर भारतीय वायुसेना द्वारा हवाई हमले कर बड़ी संख्या में आतंकवादियों और उनके प्रशिक्षकों को मारने के कुछ ही घंटों बाद मिली है.

भारतीय वायुसेना ने पाकिस्‍तान में Terror Camps को किया तबाह, जानें अब तक का पूरा घटनाक्रम

रक्षा मंत्रालय ने मजबूत नियंत्रण, वायु गतिकी और पैंतरेबाजी में सक्षम स्वदेशी क्यूआरएसएएम के सफल परीक्षण पर डीआरडीओ को बधाई दी है. रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने सभी मुख्य लक्ष्य हासिल करने पर संबंधित दल की सराहना की. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी इस सफलता पर डीआरडीओ को बधाई दी है.

भारतीय वायुसेना की कार्रवाई पर बोले यूपी सीएम, नामुकिन को मुमकिन करना सिर्फ मोदी के बस की बात