नई दिल्ली: भारत ने स्वदेश में विकसित टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल प्रणालियों ‘हेलिना’ और ‘ध्रुवास्त्र’ का शुक्रवार को सफल परीक्षण किया. इसके साथ ही इन मिसाइलों के क्रमशः थल सेना और वायु सेना में शामिल किए जाने का रास्ता साफ हो गया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.Also Read - Live Score Updates IND vs SA 3rd ODI: जीतते-जीतते हार गया भारत, साउथ अफ्रीका ने 3-0 से किया क्‍लीन स्‍वीप

रक्षा मंत्रालय ने इन मिसाइलों को विश्व में सबसे उन्नत टैंक रोधी हथियारों में से एक बताया. इन मिसाइलों का राजस्थान के पोखरण रेगिस्तान में परीक्षण किया गया. मंत्रालय ने कहा कि यह प्रणाली सभी मौसम में और दिन या रात में लक्ष्य साधने में सक्षम है और इससे टैंकों को निशाना बनाया जा सकता है. Also Read - विराट कोहली को कप्तानी से हटाने की वजह से भारतीय क्रिकेट 'Dead End' पर आ गया है: राशिद लतीफ

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि न्यूनतम और अधिकतम रेंज में मिसाइलों की क्षमताओं के मूल्यांकन के लिए पांच मिशन संचालित किए गए. मिसाइल प्रणालियों को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किया गया है . Also Read - IND vs SA, 3rd ODI: सीरीज में Ravichandran Ashwin बुरी तरह फ्लॉप, टीम में चयन से खफा Sanjay Manjrekar

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इन उपलब्धियों के लिए डीआरडीओ, सेना और वायु सेना को बधाई दी. डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ जी सतीश रेड्डी ने भी सफल परीक्षणों में शामिल टीमों के प्रयासों की सराहना की.

(इनपुट भाषा)