नई दिल्ली. भारत लगातार दूसरे साल आतंक प्रभावित देशों की सूची में तीसरे नंबर पर है. भारत से ऊपर सिर्फ इराक और अफगानिस्तान हैं. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़े में ये चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं. बता दें कि साल 2015 में पाकिस्तान आतंक से तीसरा सबसे प्रभावित देश रहा है. Also Read - Coronavirus: बीते 24 घंटे में सबसे ज्‍यादा 478 संक्रमण के मामले आए, कुल आंकड़ा 2500 के पार

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के आतंकवाद और इसके जवाब को लेकर किए गए रिसर्च में ये बात भी सामने आई है कि इस्लामिक स्टेट, तालिबान और अल-शबाब के बाद सीपीआई-माओवादी दुनिया का चौथा खतरनाक आतंकी समूह है. वहीं, ये भी कहा गया है कि जम्मू कश्मीर में साल 2017 में आतंकी हमलों की संख्या में 24 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है. इसके साथ ही हमले में मारे जाने वालों की संख्या में 89 फीसदी बढ़ोत्तरी हुई है. Also Read - कोरोना वायरस से अमेरिका में एक दिन में 1169 लोगों की मौत, 6000 के पार पहुंचा मृतकों का आंकड़ा

जम्मू-कश्मीर सबसे ज्यादा शिकार
रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में साल 2017 में हुए 860 आतंकी हमलों में कुल 25 फीसदी अकेले जम्मू-कश्मीर में हुए हैं. वहीं, एक भारत का कहना है कि भारत में हो रही ज्यादातर आतंकी गतिविधि को पाकिस्तान समर्थन करता है. वही साजिश रचता है और अंजाम पहुंचाता है. इसमें पाकिस्तानी एजेंसी और पाकिस्तानी सेना का पूरा समर्थन रहता है. वहीं, पाकिस्तान अपने देश में ही खुद से पनपाए आतंकी संगठनों का शिकार है. Also Read - COVID19: देश में करीब 2000 मामले, अब तक 50 मौतें, तबलीगी जमात की इवेंट बनी बड़ा खतरा

मरने वालों में भी वृद्धि
इस स्टडीज में बताया गया है कि भारत में हुए 53 फीसदी हमले में सीपीआई-माओवादी का हाथ है. हालांकि, संख्याबल के मुताबिक साल 2016-17 में माओवादी हमले में कमी आई है. लेकिन मरने वालों की संख्या में 16 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है.