चेन्नई, 17 जून। भारत 22 जून को एकल मिशन के तहत 20 उपग्रह लांच करेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, उस दिन सुबह 9.25 बजे भारतीय रॉकेट ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी-सी) आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से 20 उपग्रहों के साथ प्रक्षेपित किया जाएगा।Also Read - निगरानी उपग्रह RISAT-2BR1 के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू, आज 9 छोटे सैटेलाइट ले कर PSLVC48 भरेगा उड़ान

Also Read - 14 उपग्रहों के प्रक्षेपण की तैयारी में इसरो, अमेरिका के 13 सैटेलाइट्स इसमें शामिल

इस रॉकेट का मुख्य और सबसे वजनी हिस्सा पृथ्वी के अवलोकन के लिए भारत का 725.5 किलोग्राम का काटरेसैट-2 श्रृंखला का उपग्रह है। अन्य 19 उपग्रहों में 560 किलोग्राम के अमेरिका, कनाडा, जर्मनी और इंडोनेशिया के साथ-साथ चेन्नई के सत्यभामा विश्वविद्यालय और पुणे के कॉलेड ऑफ इंजीनियरिंग के दो उपग्रह शामिल हैं। Also Read - 27 नवंबर को 27 मिनट में 14 सैटेलाइट्स लॉन्च करेगा ISRO

रॉकेट 1,288 किलोग्राम पेलोड के साथ दूसरे लांच पैड से प्रक्षेपित किया जाएगा। इस पूरे मिशन में तकरीबन 26 मिनट लगेंगे। काटरेसैट उपग्रह से भेजी जाने वाली तस्वीरें काटरेग्राफिक, शहरी, ग्रामीण, तटीय भूमि उपयोग, जल वितरण और अन्य अनुप्रयोगों के लिए मददगार होंगी। यह भी पढ़े-इसरो द्वारा पूर्णत: भारत में निर्मित स्पेस शटल जल्द होगा प्रक्षेपित

सत्यभामा विश्वविद्यालय का 1.5 किलोग्राम वजनी सत्याभामासैट उपग्रह ग्रीन हाउस गैसों के आंकड़े इकट्ठा करेगा। वहीं, पुणे का एक किलोग्राम का स्वायन उपग्रह हैम रेडियो कम्युनिटी को संदेश भेजेगा।