नई दिल्ली। सीमा पर लगातार बढ़ रही घुसपैठ की घटनाओँ के बीच भारतीय सेना ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है. भारतीय सेना ने घुसपैठियों की मदद कर रही पाकिस्तानी सेना की चौकी पर ताबड़तोड़ गोले बरसाए और उसे नेस्तनाबूद कर दिया. इस कार्रवाई को पाकिस्तान ने सिरे से खारिज़ किया है और उल्टे भारत पर ही आंख दिखा रहा है. ऐसे वक्त में जब पाकिस्तान को आतंकवाद पर सख्त होना चाहिए था तो उल्टे भारत पर आँख दिखा रहा है. पाकिस्तान जितनी बड़ी-बड़ी बातें करता है क्या उसमें उतना दम भी है? आपके मन में भी सवाल उठता होगा कि किसकी सैन्य ताक़त है ज़्यादा दमदार? अगर दोनों देशों के बीच जंग छिड़ी तो कौन जीतेगा? पढ़िए दोनों देशों की सैन्य ताक़तों पर ये तुलनात्मक रिपोर्ट…

भारत की सैन्य ताक़तः एक नजर

  • भारत की GFP (ग्लोबल फायर पॉवर) रैंक 4 है.
  • भारत के पास 13 लाख 25 हजार जवान सीमारेखा पर एक्टिव हैं और 21 लाख 43 हजार रिजर्व जवान हैं.
  • भारत के पास सभी प्रकार के एयरक्राफ्ट की कुल संख्या 2102 है.
  • भारत के पास 666 हेलीकॉप्टर हैं.
  • भारतीय सेना के पास 4,426 टैंक हैं.
  • भारत के पास एसपीजी की संख्या 290 है.
  • भारत के पास 15 सबमरीन हैं.
  • भारत का कुल रक्षा बजट करीब 51 बिलियन डॉलर है

पाकिस्तान की सैन्य ताक़तः एक नजर

  • पाकिस्तान की GFP (ग्लोबल फायर पॉवर) रैंक 13 है.
  • पाकिस्तान के पास 6 लाख 20 हजार सीमा पर और 5 लाख 15 हजार जवान रिजर्व हैं.
  • पाकिस्तान के पास सभी प्रकार के एयरक्राफ्ट की कुल संख्या 951 है.
  • पाकिस्तान के पास 316 हेलीकॉप्टर हैं.
  • पाकिस्तानी सेना के 2,916 टैंक हैं.
  • पाकिस्तान के पास एसपीजी की संख्या 465 है.
  • पाकिस्तान के पास 8 सबमरीन हैं.
  • पाकिस्तान का कुल रक्षा बजट करीब 7 बिलियन डॉलर है.

(*Source- GFP, CIA World Factbook, Media sources and some values are estimated)

भारत की नीतियां एक शांतिप्रिय देश की रही हैं. यह तय है कि किसी भी सूरत में पहले भारत आक्रमण नहीं करेगा लेकिन भारतीय सेना ने अब मुंहतोड़ जवाब देना शुरू कर दिया है. हाल ही में हुई सर्जिकल स्ट्राइक और नौशेरा की घटना तो यही साबित करती हैं. ऐसी स्थिति में अगर पाकिस्तान पहल करता है तो उसकी खैर नहीं. इतिहास गवाह है पिछले 2 युद्धों की आमने-सामने की लड़ाई में पाकिस्तान का क्या हश्र हुआ था. ऊपर दोनों देशों की सैन्य ताक़त की तुलनात्मक रिपोर्ट भी यह साबित करती है अगर पाकिस्तान ने पहल की तो हश्र क्या होगा.