नई दिल्ली: भारत 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यह घोषणा की. उस साल देश की आजादी के 75 साल भी पूरे हो रहे हैं. जी-20 विश्व की 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं का एक समूह है. मोदी ने यहां अर्जेंटीना की राजधानी में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन के समापन समारोह में यह घोषणा की.वर्ष 2022 में जी 20 सम्मेलन की मेजबानी इटली को करनी थी. मोदी ने भारत को इसकी मेजबानी मिलने के बाद इसके लिए इटली का शुक्रिया अदा किया. साथ ही, उन्होंने जी-20 समूह के नेताओं को 2022 में भारत आने का न्यौता दिया.

भारत और अर्जेंटीना को जोड़ रहा है योग: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री ने घोषणा के बाद ट्वीट किया, ‘वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं. उस विशेष वर्ष में, भारत जी-20 शिखर सम्मेलन में विश्व का स्वागत करने की आशा करता है. विश्व की सबसे तेजी से उभरती सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में आइए. भारत के समृद्ध इतिहास और विविधता को जानिए और भारत के गर्मजोशी भरे आतिथ्य का अनुभव लीजिए.

सऊदी अरब में फंसे 14 भारतीय, सुरक्षित घरवापसी के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज से अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यहां जी20 शिखर सम्मेलन से इतर यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क, यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जीन क्लॉउड जंकर और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात की तथा सभी तरह के आतंकवाद से लड़ने के लिए संयुक्त प्रयास समेत भारत-यूरोपीय संघ के बीच संबंधों को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की.

भारत और यूरोपीय संघ ने नवंबर में ब्रसेल्स में हुए वार्षिक भारत-ईयू आतंकवाद रोधी और राजनीतिक संवाद के दौरान आतंकवाद, चरमपंथ और कट्टरपंथ से प्रभावी तरीके से निपटने में सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया था. मुलाकात को लेकर मोदी ने ट्वीट किया, ‘यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जीन क्लॉउड जंकर और यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क के साथ शानदार बातचीत हुई. हमारी बातचीत भारत और यूरोपीय संघ के बीच दोस्ती बढ़ाने को लेकर हुई है. हमने आतंकवाद के खतरे को खत्म करने से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर भी चर्चा की.’

पीएम मोदी और राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने माना, पिछले एक साल में भारत और चीन के बीच रिश्ते सुधरे

इससे पहले, यूरोपीय संघ के नेताओं के साथ मोदी की बैठक के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी 20 शिखर सम्मेलन से इतर जंकर और डोनाल्ड टस्क से मुलाकात की. यह चर्चा सभी तरह के आतंकवाद से लड़ने के लिए संयुक्त प्रयास समेत भारत-यूरोपीय संघ के रिश्ते मजबूत करने पर केंद्रित रही.’ मोदी और मर्केल ने तेजी से बदलती दुनिया में बहुपक्षवाद के महत्व और आतंकवाद के खिलाफ सहयोग को मजबूत करने की आवश्यकता पर आपस में चर्चा की.

भारत, रूस और चीन ने 12 साल बाद की दूसरी त्रिपक्षीय वार्ता, विभिन्न क्षेत्रों में आपसी सहयोग पर चर्चा

मोदी ने ट्वीट किया, ‘ब्यूनस आयर्स में जर्मन चांसलर मर्केल से मुलाकात की. हमने भारत और जर्मनी के बीच संपूर्ण संबंधों की समीक्षा की. हम अपने नागरिकों के लाभ के लिए व्यापक स्तर पर एक-दूसरे का सहयोग कर रहे हैं और विश्व शांति के साथ-साथ स्थिरता कायम करने की दिशा में साथ मिलकर काम कर रहे हैं.’ प्रधानमंत्री की मर्केल के साथ मुलाकात के बाद कुमार ने ट्वीट कर कहा, ‘कूटनीतिक साझेदारी मजबूत हो रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने जी20 शिखर सम्मेलन से इतर मुलाकात की. नेताओं ने तेजी से बदल रही दुनिया में बहुपक्षवाद की महत्ता और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग मजबूत करने की आवश्यकता पर विचार साझा किए.’

(इनपुट-भाषा)