नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि न्यायाधीश बी एच लोया की मौत को कभी भूला नहीं जा सकेगा और करोड़ों भारतीय सच देख सकते हैं. राहुल का यह बयान उस वक्त आया है जब एक दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के विशेष न्यायाधीश बी. एच. लोया की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत की जांच के लिए दायर याचिकाएं खारिज कर दीं. बता दें कि लोया सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रहे थे.

राहुल ने ट्वीट किया, ‘‘लोया का परिवार कहता है कि कोई उम्मीद नहीं बची है, सबकुछ मैनेज किया गया है, मैं उनसे कहना चाहता हूं कि उम्मीद है. उम्मीद है क्योंकि करोड़ों भारतीय सच देख सकते हैं. भारत लोया की मौत को भूलने नहीं देगा.’’ राहुल ने उस खबर को भी टैग किया जिसमें लोया के परिवार के हवाले से कहा गया है कि ‘कोई उम्मीद नहीं बची है, सबकुछ मैनेज किया हुआ लगता है.’ इससे पहले राहुल ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा था कि उन जैसे लोगों को बेनकाब करने का सच का अपना तरीका होता है.

इससे पहले गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा न्यायाधीश लोया की मौत की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया था, सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि लोया की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है और कोर्ट ने मौत पर संदेह जताने वाली तथा स्वतंत्र जांच की मांग वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया था. इसके बाद भी राहुल ने ट्वीट किया था कि भारतीय बेहद समझदार होते हैं. भाजपा के लोग समेत अधिकतर भारतीय अमित शाह की सच्चाई जानते हैं. ऐसे लोगों को बेनकाब करने का सच का अपना तरीका होता है.

दिवंगत जज लोया सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रहे थे, जिसमें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कभी आरोपी थे और बाद में उन्हें आरोपमुक्त कर दिया गया था.