नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना किसी भी आकस्मिक स्थिति में प्रतिक्रिया के लिए उचित तैनाती के लिए अच्छी तरह से तैयार है. ये बात चीन अच्छी तरह से जान गया होगा. पिछले कई दिनों से भारतीय सेना के विमान लद्दाख में चीन से लगी सीमा (LAC) में गरज रहे हैं. बता दें कि गलवान घाटी में 15 जून को चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हिंसक भिड़ंत के बाद लद्दाख में LAC पर वायुसेना को हाई अलर्ट पर रखा गया है.Also Read - चीन में तूफान इन-फा ने दस्‍तक दी , हेन्‍नान में 1000 सालों में सबसे अधिक बारिश, बाढ़ से 63 मौतें

चीन के साथ तनाव के बीच भारतीय वायुसेना ने सुखोई, मिग और अपाचे हेलिकॉप्टर LAC पर तैनात कर दिए हैं और ऑपरेशन भी शुरू कर दिया है. शनिवार को सीमा पर फॉरवर्ड एयरबेस के पास सुखोई मिग विमान उड़ते नजर आए. यही नहीं भारतीय वायुसेना ने अपना आधुनिक युद्धक हेलिकॉप्टर अपाचे भी फॉर्वर्ड बेस पर तैनात किया है. Also Read - बाढ़ आने में क्या है चांद का रोल? 2030 तक बदतर होगी स्थिति; ऑस्ट्रेलिया पर मंडराया खतरा

NBTAlso Read - Tokyo Olympics 2020: जीत के बाद बोलीं Mirabai Chanu- खुश हूं, सालों का सपना सच हुआ

पिछले कुछ दिनों से विमानों से सैनिकों और सामान को लद्दाख के अलग-अलग इलाकों में भेजा जा रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक मिग 29 विमान, अपाचे और चिनूक हेलिकॉप्टर भी यहां तैनात किए गए हैं.

NBT

एयरबेस में तैयारियों को सुनिश्चित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे एक विंग कमांडर ने कहा, “भारतीय वायु सेना संचालन के लिए पूरी तरह से तैयार है और सभी चुनौतियों को पूरा करने के लिए तैयार है. वायु शक्ति युद्ध में आज प्रासंगिक और बहुत शक्तिशाली पहलू है.” उन्होंने कहा, “इस बेस पर और पूरी वायुसेना में हर एयर वॉरियर पूरी तरह से प्रशिक्षित और सभी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम है. हमारा जोश हमेशा हाई रहा है और आकाश को गौरव से छू रहा है.”

 गलवान घाटी संघर्ष के बाद तनाव के मद्देनजर अपनी तैयारी को लेकर वायु सेना अधिकारी ने कहा, “वायु सेना इस क्षेत्र में मुकाबला और समर्थन दोनों भूमिकाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी. भारतीय वायु सेना सभी परिचालन कार्यों को पूरा करने और सभी सैन्य अभियानों के लिए अपेक्षित सहायता प्रदान करने के लिए सभी पहलुओं में तैयार है.”

NBT