नई दिल्ली. जैश-ए-मोहम्मद आतंकी समूह के कैंप पर भारतीय वायु सेना के हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के मद्देनजर वायु सेना ने शुक्रवार को एक कविता ट्वीट कर इस्लामाबाद पर कटाक्ष किया. अपने ट्विटर हैंडल के जरिए वायुसेना ने बिपिन इलाहाबादी की हिंदी कविता ‘हद सरहद की’ को ट्वीट किया. ‘‘आज किसी ने सरहदें पार की क्योंकि किसी ने हदें पार की… .’’ ट्वीट की पृष्ठभूमि में एक लड़ाकू विमान की तस्वीर भी है.

हद सरहद की

आज किसी ने सरहदें पार की,
क्योंकि किसी ने सारी हदें पार की।
उस लड़ाकू में, जिसका अर्थ मृगमरीचिका है,
एक हक़ीक़त, गयी रात हमने बयाँ की।
आज किसी ने सरहदें पार की…

. .. विपिन ‘इलाहाबादी’, 27 फरवरी 2019

बता दें कि इससे पहले इंडियन आर्मी यानी थलसेना ने भी अपने अंदाज में वायुसेना के इस अभियान को सराहा था. थलसेना ने Air Strike को लेकर सोशल मीडिया पर एक कविता की कुछ पंक्तियां शेयर की थी. ये पंक्तियां राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर द्वारा लिखी ‘शक्ति और क्षमा’ शीर्षक कविता की थी.

 

थलसेना ने टि्वटर पर डाले गए अपने पोस्ट में इस कविता के जरिए भारत की विदेश नीति और भारतीय वायुसेना के जज्बे को दिखाया था. ‘क्षमाशील हो रिपु-समक्ष तुम हुए विनीत जितना ही, दुष्ट कौरवों ने तुमको कायर समझा उतना ही. सच पूछो, तो शर में ही बसती है दीप्ति विनय की, सन्धि-वचन संपूज्य उसी का जिसमें शक्ति विजय की.’ यानी भारत ने पाकिस्तान के प्रति जितनी सहिष्णुता दिखाई है, उसे पाकिस्तान ने हमारी कायरता समझा. दिनकर अपनी कविता में कहते हैं कि वस्तुतः ताकतवर व्यक्ति के हाथों में माफी देने की कूवत होती है.