Indian Army Day 2022: भारतीय सेना 15 जनवरी को ही क्यों मनाती है थल सेना दिवस, जानें पुराने किस्से

फ्रांसिस ने भारत में अंतिम ब्रिटिश जनरल के रूप में काम किया और इसके बाद भारतीय सेना की कमान फील्ड मार्शल केएम करियप्पा को सौंप दी गई और करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर इन चीफ बने. केएम करियप्पा के भारतीय थल सेना के शीर्ष कमांडर का पद संभालने के ही उपलक्ष्य में हर साल 15 जनवरी के दिन भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) मनाया जाता है.

Published: January 15, 2022 8:34 AM IST

By Avinash Rai

Indian Army TES 46 Recruitment 2021
प्रतीकात्मक तस्वीर

Indian Army Day 2022: भारतीय सेना आज अपना 74वां स्थापना दिवस मना रही है. भारतीय सेना द्वार हर साल 15 जनवरी के दिन भारतीय सेना दिवस मनाया जाता है. दरअसल आज ही के दिन फील्ड मार्शल केएम करियप्पा (Field Marshal KM Cariappa) ने आजादी के बाद साल 1949 में ब्रिटिश जनरल फ्रांसिस बुचर (General Sir Francis Butcher) से भारतीय सेना की पूरी कमान ली थी. फ्रांसिस ने भारत में अंतिम ब्रिटिश जनरल के रूप में काम किया और इसके बाद भारतीय सेना की कमान फील्ड मार्शल केएम करियप्पा को सौंप दी गई और करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर इन चीफ बने. केएम करियप्पा के भारतीय थल सेना के शीर्ष कमांडर का पद संभालने के ही उपलक्ष्य में हर साल 15 जनवरी के दिन भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) मनाया जाता है.

Also Read:

कौन थे केएम करियप्पा?
केएम करियप्पा का जन्म कर्नाटक के कुर्ग जिले में साल 1899 में हुआ था. फील्ड मार्शल करियप्पा ने ब्रिटिश भारतीय सेना से फौज की नौकरी की शुरुआत की और करियप्पा ने 1947 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में पश्चिमी सीमा पर सेना का नेतृत्व किया था. वहीं भारत और पाकिस्तान के विभाजन के दौरान दोनों देशों की सेनाओं को बांटने और उनके बंटवारे की जिम्मेदारी भी केएम करियप्पा को ही सौंपी गई थी. करियप्पा साल 1953 में रिटायर हो गए और करियप्पा को साल 1986 में फील्ड मार्शल के पद से सम्मानित किया गया.

दरअसल फील्ड मार्शल का पद भारतीय सेना का सर्वोच्च पद है. दरअसल यह पद सम्मान स्वरूप दिया जाता है. भारतीय सेना के इतिहास में यह सम्मान केवल दो लोगों के ही नाम पर है. पहला सैम मानेकशॉ (Sam Manekshaw), जिन्हें 1973 में इस पद से सम्मानित किया गया वहीं दूसरे हैं केएम करियप्पा. जिन्हें साल 1986 में इस पद से सम्मानित किया गया था.

भारतीय सेना तब और अब
– साल 1776 में भारतीय सेना का गठन किया गया कोलकाता में ब्रिटिश ईस्ट ईंडिया कंपनी द्वारा किया गया था.
-भारतीय सेना दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी और ताकतवर आर्मी है. यही कारण है कि हिटलर और इजरायल दोनों ही भारतीय सेना के अनुशासन को सर्वोपरि मानते हैं और उनका कहना है कि अगर भारतीय सेना उनके हाथ में हो तो वे पूरी दुनिया पर जीत हासिल कर सकते हैं.
-साल 2013 में उत्तराखंड में बाढ़ पीड़ितों को बचाने के लिए चलाया जाने वाला ‘ऑपरेशन राहत’ दुनिया का सबसे बड़ा सिविलियिन रेस्क्यू ऑपरेशन था.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें देश की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 15, 2022 8:34 AM IST