नई दिल्ली/श्रीनगर. सेना के जवान औरंगजेब की हत्या की जांच कर रहे अधिकारियों के हाथ में कुछ चौंकाने वाले सबूत मिले हैं. इस आधार पर 44 राष्ट्रीय राइफल के 3 जवानों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. बता दें कि पिछले साल जून महीने में सेना जवान औरंगजेब छुट्टी पर घर जा रहे थे. इसी बीच रास्ते में आंतकियों ने उनका अपहरण कर हत्या कर दी.

अंग्रेजी वेबसाइट इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, घर जाते वक्त औरंगजेब ने इन्हीं तीनों जवानों से अपनी पूछं यात्रा को शेयर किया था. औरंगजब की हत्या से पूरे देश में गुस्सा था. पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उन्हें मरणोपरांत शौर्य चक्र से नवाजा गया था. बता दें कि औरंगजेब के पिता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में बीजेपी ज्वाइन कर लिया है.

भाई की पिटाई
दूसरी तरफ सोमवार को हिरासत में लिए गए जवानों में से एक आबिद वानी के भाई तौसीफ अहमद की गंभीर रूप से पिटाई के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि उसे राष्ट्रीय रायफल के जवानों ने ही मारा है. डिफेंस के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया के मुताबिक, इस मामले में डिटेल जानकारी जुटाई जा रही है.

अस्पताल गई थीं महबूबा
इस मामले में पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती अस्पताल पहुंची और अहमद का हालचाल जाना. उन्होंने कहा कि मैं निश्चिंत हूं कि गवर्नर साहब इस मामले में उचित कदम उठाएंगे. उसका भाई भी गायब है और वह कहां है इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है.

औरंगजेब को लेकर शेयर की थी जानकारी
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिरासत में लिए गए राष्ट्रीय राइफल के जवान आबिद वानी, तजामुल अहमद और आदिल वानी से औरंगजेब के बारे में जानकारी शेयर करने के आरोप में पूछताछ की जा रही है. इनमें से दो पुलवामा और एक कुलगाम के रहने वाले हैं. बता दें कि जांच में उनकी भूमिका के बारे में पता चला था.