देहरादून: लेह लद्दाख सीमा पर गोरखा रेजिमेंट के जवान करण देव शहीद हो गए. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने लेह-लद्दाख सीमा पर उधमसिंह नगर जिले के किच्छा निवासी करन देव उर्फ देव बहादुर की शहादत पर उन्हें नमन करते हुए उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की. Also Read - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत की सेना का पाकिस्तान में खौफ: भाजपा

अपने शोक संदेश में मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि अपना फर्ज निभाते हुए शहीद हुए गोरखा रेजीमेंट के 24 वर्षीय जवान के परिजनों के साथ सरकार हमेशा खड़ी रहेगी. किच्छा के गौरीकलां क्षेत्र का रहने वाला करन देव भारतीय सेना में वर्ष 2016 में भर्ती हुआ था. Also Read - भारतीय सेना को मिला अपना मोबाइल मैसेजिंग ऐप, बातचीत के लिए विशेष रूप से किया गया है विकसित

उसके शहीद होने की खबर मिलते ही पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई. क्षेत्रीय विधायक राजेश शुक्ला जवान के परिजनों को ढांढस बंधाने के लिए उनके घर पहुंचे. करन देव का बड़ा भाई किशन बहादुर भी भारतीय सेना में है और फिलहाल ग्वालियर में तैनात है.